गैनोडर्मा का करें इस्तेमाल…दमकने लगेगी रूखी त्वचा,निखरेगा रूप

शैल

पंचायत खबर पर एक साप्ताहिक श्रृंखला शुरू की गई है जिसमें आपको हमारे विशेषज्ञ अपने शरीर, त्वचा के देखभाल से संबंधित जरूरी जानकारी देंगे। इस श्रृंखला की चौथी कड़ी में पेश है ब्यूटी विशेषज्ञ शैल का ये आलेख…


नयी दिल्ली: पिछले आलेखों में त्वचा के प्रकार, उनकी पहचान व रखरखाव की चर्चा की थी। आज हम एक कदम और आगे बढ़ते हैं और चर्चा करते हैं उन तौर तरीकों को लेकर, कुछ उत्पादों को लेकर। आपको बताने का प्रयास है कि कैसे आप अपनी त्वचा की देखभाल सही तरीके से करें और उन उत्पादों का इस्तेमाल करें जो घर में तैयार की गई हो या​ फिर बाजार से भी खरीदना पड़े तो ऐसा हो जो हर्बल तो हो ही लेकिन हर्बल उत्पाद के नाम पर ऐसा उत्पाद न हो जो आपके त्वचा के लिए नुकसान दायक हो।


इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए उन हर्बल उत्पादों की चर्चा करते हैं जिसके इस्तेमाल से आपको निश्चित ही फायदा होगा। ऐसा ही एक उत्पाद है डीएक्सएन गैनोडर्मा। त्वचा के रखरखाव और चमक-दमक बरकरार रखने के लिए यह एक बेहतरीन उत्पाद है इसकी मॉइच्शराइजिंग लोशन, फेस क्लीनर, स्किन ट्रीटमेंट सोप आपके लिए वरदान साबित होते हैं।
क्या है गैनोडर्मा
गैनोडर्मा कई औषधीय गुणों से युक्त लकड़ी पर उगने वाला खुम्ब जाति का एक पौधा है। गैनोडर्मा को कई जगहों पर रिशी भी कहा जाता है। खुम्ब के लगभग 80 प्रजातियाँ हैं जिनमें से ज़्यादातर उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पैदा होती हैं. आयुर्वेदिक औषधियों में गैनोडर्मा का भरपूर इस्तेमाल किया जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि मशरूम का सेवन मानव सेहत के लिए रामबाण है।
गैनोडर्माअर्थात लाल मशरूम वैसे तो मशरूम कई हजार प्रकार के होते हैं मगर इसमें इस्तेमाल करने के लायक छह प्रकार के मशरूम ही होती हैं इसमें सबसे ज्यादा चमत्कारी लाभ देने वाला रेड मशरूम है जिसे मेडिसिनल माना गया है जिसे किंग ऑफ हर्बल आयुर्वेद का राजा भी कहा जाता है
रेड मशरूम में लगभग 400 एक्टिव एलिमेंट पाया जाता है यह हमारे बॉडी के गंदगी को बाहर खींच कर बाहर निकालता है एवं यह हमारे कोशिकाओं अर्थात सेल्स पर काम करता है।

गैनोडर्मा का इस्तेमाल और फायदे
गैनोडर्मा यानी जड़ी-बूटी। ऐसी जड़ी-बूटी, जो हमारे कोशिकाओं पर काम करता है। बीमार कोशिकाओं को हटाकर नए सेल्स को बनाने की प्रक्रिया मैं मदद करता है। यानी जब आप इस उत्पाद का इस्तेमाल करते हैं तो यह आपके त्वचा के उपरी परत पर जो डेड स्कीन होते हैं, उसको हटाकर यह जो हमारे सेल से त्वचा के जो कोशिकाएं हैं उस पर वह बेहतर काम करता है जिसकी वजह से हमारी त्वचा संबंधी समस्या दूर है। चाहे हमारे किशोरावस्था की त्वचा संबंधी समस्या हो या मुंहासे की समस्या हो या फिर झाइयों की प्रॉब्लम हो या फिर झुर्रियां की। इस उत्पाद का इस्तेमाल से निश्चित रूप से आपको फायदा होगा। इसका इस्तेमाज त्वचा संबंधी संबंधी ज्यादातर परेशानियों में उपयोगी होता है। गैनोडर्मा में तीन चार ही देशों में पाई जाती है। ये देश हैं चीन, जापान व कोरिया। इन देशों के घने जंगलों में ही यह गनोडरमा मिलती हैं। ऐसा भी नहीं है कि यह कोई नया जड़ी-बूटी है। यह लगभग 5000 साल पुरानी जड़ी-बूटी है। इसे चीन एवं जापान में दिव्य मशरूम भी कहा जाता है और इसकी पूजा भी की जाती है और इसका उल्लेख हमारे भारतीय वेदों में भी मिलता है।

कुल मिलाकर आपको बताने का यह मेरा तात्पर्य है कि हमें ऐसे प्रोडक्ट को ही महत्व देना चाहिए जो हमारे वेद व जड़ी-बूटी से जुड़ा हुआ हो, प्रकृति से जुड़ा हो क्योंकि प्रकृति के पास ही सारी समस्याओं का हल है। जो हमारा शरीर है वह भी एक नेचर से ही बनता है। यानी आपके त्वचा के चमक-धमक को बनाये रखने में गैनोडर्मा काफी मददगार होता है। यदि उत्पाद में गैनोडर्मा की अधिकता हो तो वह आपकी त्वचा पर बहुत अच्छा प्रभाव छोड़ेगी। वैसे तो आपको बहुत सारे प्रोडक्ट या कंपनियां मिल जाएंगी जिन्हें आप यूज कर सकते हैं। लेकिन य​दि डीएक्सएन के गैनोडर्मा से जुड़ी उत्पाद का इस्तेमाल हमने अपने से जुड़े लोगों पर किया है तो यह दावे के साथ कहा जा सकता है कि यह उत्पाद उपयोगी है और इसका कोई साईड इफेक्ट भी नहीं है।
तो इन्ही बातों के साथ आज की बातचीत यहीं समाप्त करते हैं आज के लिए बस इतना ही, धन्यवाद। खुश रहें,मुस्कुराते रहें क्योंकि मुस्कुराने से आप खूबसूरती और बढ़ेगी और चेहरे की कांती बनी रहेगी और आप और भी चमक चमकदार दिखेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *