Panchayat Toli

भारत माता के वीर सपूत-स्व. डुमर सिंह

हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के लिए जीवन, परिवार, संबंध और भावनाओं से भी ज्यादा महत्वपूर्ण था हमारे देश की आजादी। इस पूरी लड़ाई में कई व्यक्तित्व उभरे, कई घटनाएं हुई, इस अद्भुत क्रांति में असंख्य लोग शहीद हुए, घायल हुए। अपने सम्मान और गरिमा के लिए हर कोई अपने देश के लिए मौत को गले लगाने …

भारत माता के वीर सपूत-स्व. डुमर सिंह Read More »

पंचायतों में लोकतंत्र की नीलामी,निर्विरोध निर्वाचन पर प्रशासन की कड़ी नजर

पंचायत चुनावों में पदों की नीलामी हो रही है। सबसे अधिक बोली लगाने वाला निर्विरोध निर्वाचित हो रहा है। मामला किसी तथाकथित पिछड़े प्रदेश का नहीं, महाराष्ट्र का है जिसे राजनीतिक रूप से काफी जागरुक माना जाता है। महाराष्ट्र में भी दूरदराज के पिछड़े इलाके में नहीं, बल्कि शिक्षित और संपन्न शहर पुणे के आसपास …

पंचायतों में लोकतंत्र की नीलामी,निर्विरोध निर्वाचन पर प्रशासन की कड़ी नजर Read More »

गांव की तरक्की के बिना देश के विकास की तस्वीर धुंधली

भारत गांवों का देश है। गांवों की खुशहाली के बिना देश की खुशहाली की कल्पना भी नहीं की जा सकती। जयपुर से मात्र ढ़ाई घंटे की दूरी पर सीकर और झुंझनू के बीच नवलगढ़ तहसील है। यह पूरा क्षेत्र शेखावटी कहलाता है। यहां 120 ऐसे गांव और शहर हैं जहां से देश के अधिकांश उद्योगपति …

गांव की तरक्की के बिना देश के विकास की तस्वीर धुंधली Read More »

रिश्तों में गांठ लिए किसान संगठनों और सरकार के बीच खुले मन से वार्ता..नतीजा ढ़ाक के ​तीन पात…

नयी दिल्ली: विज्ञान भवन में आज फिर लंगर की थाल सजी, लेकिन पिछली वार्ता की तरह लंच ब्रेक के दौरान किसान नेताओं के साथ लंगर में केन्द्रीय मंत्री नहीं दिखे। फिर एक नयी ​तारीख तय हुई और वो तारीख है 19 तारीख। किसानों और सरकार के बीच वार्ता के लिहाज से ये दो बातें ही …

रिश्तों में गांठ लिए किसान संगठनों और सरकार के बीच खुले मन से वार्ता..नतीजा ढ़ाक के ​तीन पात… Read More »

हाय—हाय मोदी..मर जा…..,मनाइ गई लोहरी,जली कृषि बिल की कॉपियां,सुशील मोदी… प्रति आंदोलनकारी 10 हजार रूपये का खालिस्तानी फंड,क्यों चुप है राहुल गांधी

नयी दिल्ली/पटना: कहते हैं कि रोम जल रहा था नीरो बांसुरी बजा रहा था लेकिन यहां देश जगा रहा है,सरकार भी जग रही,सर्वोच्च अदालत भी जगी हुई है और जगा हुआ इन सर्द रातों में दिल्ली के विभिन्न बोर्डरों पर देश का अन्नदाता। जलाई जा रही है कृषि बिल की कॉपियां जिसके वापसी की मांग …

हाय—हाय मोदी..मर जा…..,मनाइ गई लोहरी,जली कृषि बिल की कॉपियां,सुशील मोदी… प्रति आंदोलनकारी 10 हजार रूपये का खालिस्तानी फंड,क्यों चुप है राहुल गांधी Read More »

धान खरीदगी में सरकारी गड़बड़झाला..किसान बिचौलिये के चंगुल में फसने को मजबूर

पटना: बिहार में धान की सरकारी खरीद की निगरानी मुख्यमंत्री स्तर से होने की घोषणाओं के बीच भ्रम का माहौल है। एकबार 31 मार्च तक 30 लाख टन धान की सरकारी खरीद होने का लक्ष्य निर्धारित किया गया, लेकिन एकाएक लक्ष्य बढ़ाकर 45 लाख टन कर दिया गया और तारीख घटाकर 31 जनवरी निर्धारित कर …

धान खरीदगी में सरकारी गड़बड़झाला..किसान बिचौलिये के चंगुल में फसने को मजबूर Read More »

सुविधाएं बढ़ेगी, पर टैक्स भी बढ़ेंगे

पटना: बिहार में पंचायत चुनाव प्रमंडलवार कराने का प्रस्ताव है। इसके कई फायदे गिनाए जा रहे हैं। राज्य सरकार और निर्वाचन आयोग जल्द ही इसपर फैसला करने वाला है। इसके अलावा भी इसबार पंचायत चुनाव में कई परिवर्तन दिखेंगे। नए नगर निकायों के गठन, विस्तार और प्रोन्नति की वजह से ग्राम-पंचायतों की संख्या घट जाएगी। …

सुविधाएं बढ़ेगी, पर टैक्स भी बढ़ेंगे Read More »

बोले मनोहर लाल…महासम्मेलन में तोड़फोड़ के जिम्मेवार हैं वामपंथी किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ुनी व कांग्रेस

करनाल: एक तरफ दिल्ली के बोर्डर पर धरना दे रहे किसान सरकार से कृषि बिल के मसले पर बातचीत कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ वामपंथी पार्टियों के समर्थक किसान नेता और कांग्रेस पार्टी हर कीमत चाहते हैं किसान और सरकार के बीच गतिरोध बना रहे। इतना ही नहीं वो ​किसानों को इस बात के …

बोले मनोहर लाल…महासम्मेलन में तोड़फोड़ के जिम्मेवार हैं वामपंथी किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ुनी व कांग्रेस Read More »

मनोहर लाल का किसान महापंचायत,उपद्रवी कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने काटा बवाल

बोले ग्रामीण… अन्नदाता का नाम लेकर गुंडागर्दी करने वाले किसान नहीं हो सकते नयी दिल्ली: दिल्ली के बॉर्डर पर एक तरफ बड़ी संख्या में किसान महीनों से कृषि बिल को वापस लिए जाने की मांग को सड़क घेर सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं वहीं करनाल में किसानों की भीड़ उस वक्त …

मनोहर लाल का किसान महापंचायत,उपद्रवी कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने काटा बवाल Read More »

वामपंथी नेताओं के कुचक्र में फंसा किसान आंदोलन, प्रभावी संतों के जरिए सुलह के रास्ते तलाश रही है सरकार

नयी दिल्ली: किसान आंदोलन में जिस तरह से सरकार और किसान प्रतिनिधियों के बीच गांठ पड़ी हुई है वैसे में दिल्ली के बोर्डर से लगभग 45 दिन से जमे किसान कैसे हटेगें किसी को समझ नहीं आ रहा। किसान चाहते हैं कृषि कानून वापस हो और सरकार चाहती है कि कृ​षि कानून वापसी के मसले …

वामपंथी नेताओं के कुचक्र में फंसा किसान आंदोलन, प्रभावी संतों के जरिए सुलह के रास्ते तलाश रही है सरकार Read More »