Government Scheme

बिहार में धान की सरकारी खरीद में गड़बड़झाला…खरीद हुई देर से शुरु, जल्दी बंद.. फिर भी डेढ़ गुना से अधिक खरीद

अमरनाथ झा पटना: बिहार में धान की सरकारी खरीद में अजीब-सा गड़बड़झाला नजर आता है, लेकिन ठीक से समझ में नहीं आता। इस वर्ष रिकार्ड 35 लाख टन धान की सरकारी खरीद हुई जबकि खरीद कम दिनों तक हुई और धान की उपज कम होने के आंकड़े आए हैं। आमतौर पर बीते पांच-सात वर्षों से …

बिहार में धान की सरकारी खरीद में गड़बड़झाला…खरीद हुई देर से शुरु, जल्दी बंद.. फिर भी डेढ़ गुना से अधिक खरीद Read More »

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के दो वर्ष हुए पूरे, करोड़ों किसानों को हुआ लाभ

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM KISAN Samman Nidhi) को 2 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। दो साल पहले 24 फरवरी 2019 को पीएम-किसान योजना (PM Kisan Yojana) की शुरुआत हुई थी।भारत सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान)’ योजना के सफल संचालन की दूसरी वर्षगांठ के अवसर पर बुधवार को केंद्रीय …

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के दो वर्ष हुए पूरे, करोड़ों किसानों को हुआ लाभ Read More »

असम में धान की खरीद बंद

गुवाहाटी: जब देशभर के किसान नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं, असम के किसान धान की सरकारी खरीद पूरीतरह बंद होने से परेशान हैं। कोरोनाजन्य देशबंदी की वजह से इस साल धान की खरीद देर से शुरु हुई। फिर अचानक केन्द्र सरकार के निर्देश से यह पूरी प्रक्रिया बंद हो गई। इसलिए …

असम में धान की खरीद बंद Read More »

किसानों का चक्का जाम, दिल्ली रही बेअसर-बाहर मिला जुला असर

नयी दिल्लीः गणतंत्र के दिन जिस तरह किसान संगठनों द्वारा आयोजित ट्रैक्टर मार्च में दिल्ली की सड़कों पर हिंसक वारदातें हुई उसने किसान नेताओं और प्रशासन के बीच विश्वास की खाई बहुत गहरी कर दी है। यही कारण है कि किसान संगठनों द्वारा आयोजित चक्का जाम दिल्ली और उत्तर प्रदेश में आयोजित न किये जाने …

किसानों का चक्का जाम, दिल्ली रही बेअसर-बाहर मिला जुला असर Read More »

गैर राजनीतिक किसान आंदोलन को लेकर सदन में राजनीतिक दलों का हल्ला बोल

नयी दिल्ली: दिल्ली के बोर्डर पर किसान जमे हुए हैं। कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर कांग्रेस के सांसद संसद परिसर में स्थित महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने प्रदर्शन किया। संसद के दोनों सदनों में तीन कृषि कानून को लेकर हंगामा हुआ। राज्यसभा में जब विपक्षी सांसदों ने कृषि कानून को लेकर …

गैर राजनीतिक किसान आंदोलन को लेकर सदन में राजनीतिक दलों का हल्ला बोल Read More »

कृषि कानून के खिलाफ किसानों के समर्थन में एकजुट हुए नागरिक संगठन..बताया जनविरोधी

पटना: बिहार की राजधानी पटना में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की आवाजें समय के साथ मुखर होते जा रही हैं। एक तरफ विपक्षी राजनीतिक दल केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 30 जनवरी को पूरे बिहार में मानव श्रृंखला बनाने की मांग कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ पटना का …

कृषि कानून के खिलाफ किसानों के समर्थन में एकजुट हुए नागरिक संगठन..बताया जनविरोधी Read More »

राजपथ पर टैंक, सड़कों पर ट्रैक्टर से सुसज्जित गणतंत्र… रंग में भंग डालने का षड्यंत्र नाकाम

नयी दिल्ली: 26 जनवरी। गणतंत्र का पर्व। किसानों का तीन कृषि कानूनों की वापसी को लेकर दो माह से ज्यादा समय से जारी आंदोलन। किसान संगठन काफी पहले से लगातार ये कहते रहे कि इस बार राजपथ पर टैंक के साथ ट्रैक्टर भी चलेगा। इसको लेकन बातें सरकार के सामने भी रखी गईं। मामला सुप्रीम …

राजपथ पर टैंक, सड़कों पर ट्रैक्टर से सुसज्जित गणतंत्र… रंग में भंग डालने का षड्यंत्र नाकाम Read More »

कृषि कानून के विरोध एकजुट हुआ पटना का नागर समाज,कहा.. देश की थाली से रोटी छीने जाने की हो रही है कवायद

पटना: तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ एक तरफ दिल्ली में किसान बोर्डर को घेर कर सरकार पर दबाव बना रहे हैं वहीं देश के अन्य ईलाको में भी इसे लेकर धरना-प्रदर्शन हो रहे हैं। यहां तक कि अब किसानों को नागरिक संगठनों का भी साथ मिलने लगा है। कुछ इसी तरह की कवायद विगत …

कृषि कानून के विरोध एकजुट हुआ पटना का नागर समाज,कहा.. देश की थाली से रोटी छीने जाने की हो रही है कवायद Read More »

औने पौने दाम पर खुले बाजार में धान बेचने को मजबूर हैं बिहार के किसान

पटना: बिहार धान की सरकारी खरीद की मंथर गति से किसान नाराज हैं। वे चाहते हैं कि खरीद की आखिरी तारीख को मार्च तक बढ़ाया जाए। मालूम हो कि आमतौर पर धान की खरीद ३१ मार्च तक होती रही है, इस बार इसे घटाकर ३१ जनवरी तक कर दिया गया है,लेकिन खरीद की रफ्तार जस …

औने पौने दाम पर खुले बाजार में धान बेचने को मजबूर हैं बिहार के किसान Read More »

किसान आंदोलन के बीच …संसद के विशेष सत्र के लिए अभियान पर निकले हैं साईनाथ

कृषि और संबंधित विषयों पर विचार करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग लेकर वरिष्ठ पत्रकार पी साईनाथ देशव्यापी अभियान चला रहे हैं। उनका कहना है कि कृषि और किसान पहले से ही संकट में हैं, नए कृषि कानून उस संकट को बेतहाशा बढ़ाने वाले हैं। तीनों कानून अवांछित और असंवैधानिक हैं। …

किसान आंदोलन के बीच …संसद के विशेष सत्र के लिए अभियान पर निकले हैं साईनाथ Read More »