Santosh Kumar Singh

एक दशक से भी ज्यादा से पत्रकारिता में सकिय। संसद से लेकर दूर दराज के गांवो तक के पत्रकारिता का अनुभव। ग्रामीण समाज व जनसरोकार से जुड़े विषयों पर पत्र पत्रिकाओं में लेखन। अब पंचायत खबर के जरिये आपके बीच।

गैर राजनीतिक किसान आंदोलन को लेकर सदन में राजनीतिक दलों का हल्ला बोल

नयी दिल्ली: दिल्ली के बोर्डर पर किसान जमे हुए हैं। कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर कांग्रेस के सांसद संसद परिसर में स्थित महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने प्रदर्शन किया। संसद के दोनों सदनों में तीन कृषि कानून को लेकर हंगामा हुआ। राज्यसभा में जब विपक्षी सांसदों ने कृषि कानून को लेकर …

गैर राजनीतिक किसान आंदोलन को लेकर सदन में राजनीतिक दलों का हल्ला बोल Read More »

सरकार और किसान के बीच रिश्ता पवित्र..तो फिर वो तीसरा कौन है जो नहीं होने दे रहा वार्ता सफल

नयी दिल्ली: किसान और सरकार के नुमाईंदो के बीच 11 दौर की लगभग 45 घंटे की बैठक। नतीजा सिफर। आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। इस पड़ाव पर याद आती है धूमिल की वो कविताएक आदमीरोटी बेलता हैएक आदमी रोटी खाता हैएक तीसरा आदमी भी हैजो न रोटी बेलता है, न रोटी खाता हैवह सिर्फ़ …

सरकार और किसान के बीच रिश्ता पवित्र..तो फिर वो तीसरा कौन है जो नहीं होने दे रहा वार्ता सफल Read More »

तीनों कृषि कानून असंवैधानिक, आग से खेल रही सरकार: पी साईनाथ

पटना: केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानून को लेकर कृषि विशेषज्ञ व मैग्सेसे पुरस्कार विजेता पी. साईनाथ लगातार देश के अलग-अलग हिस्सों में घूम-घूम कर संवाद कर रहे हैं। कभी वे धरना स्थल पर किसानों के मध्य मंच से संवाद कर रहे होते हैं तो कभी अलग-अलग हिस्सों में घूमकर। शनिवार को पी साईनाथ …

तीनों कृषि कानून असंवैधानिक, आग से खेल रही सरकार: पी साईनाथ Read More »

किसान और सरकार के बीच गतिरोध बरकरार, न कानून वापसी पर बनी सहमति,न एमएसपी पर बनी बात

नयी दिल्ली: दो कदम तुम भी चलो, दो कदम हम भी चलें। लेकिन न तो सरकार दो कदम पीछे हटने को तैयार है और न ही किसान दो कदम आगे बढ़ने को तैयार है। सहमति की ताली बजे तो कैसे उसके लिए दोनों को हाथ बढ़ाना पड़ेगा। कुछ इसी पड़ाव पर आज विज्ञान भवन में …

किसान और सरकार के बीच गतिरोध बरकरार, न कानून वापसी पर बनी सहमति,न एमएसपी पर बनी बात Read More »

सर्द मौसम में जान गंवाते किसानों पर अश्रु गैस के गोले..सोनिया ने बताया अहंकारी सरकार, राहुल को याद आया चंपारण सत्याग्रह

नयी दिल्ली: हमारा अन्नदाता ​यानी जो हमारे लिए अन्न उगाता है। वैसे तो अन्नदाताओं को एक—ए​क दिन भारी पर रहा है। लेकिन कहते हैं न कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। इसी कुछ पाने की उम्मीद में महीनों से हमारा अन्नदाता दिल्ली बोर्डर पर हजारों की संख्या में महीनों से जमा हुआ है। …

सर्द मौसम में जान गंवाते किसानों पर अश्रु गैस के गोले..सोनिया ने बताया अहंकारी सरकार, राहुल को याद आया चंपारण सत्याग्रह Read More »

तारीख पे तारीख…तारीख पे तारीख…समाधान तक पहुंचने के लिए एक और तारीख..4 जनवरी

संतोष कुमार सिंहनयी दिल्ली: तारीख पे तारीख—तारीख पे तारीख…अब अगली तारीख 4 जनवरी..। यानी सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के सातवें दौर की बातचीत में हुई साढ़े पांच घंटे की बातचीत में लंच विराम हुआ और जब मंत्री लंगर खाते, किसान नेताओं के साथ सेल्फी खिंचाते दिखे तो संदेश ये गया कि सब कुछ …

तारीख पे तारीख…तारीख पे तारीख…समाधान तक पहुंचने के लिए एक और तारीख..4 जनवरी Read More »

95 फीसदी को कामचलाऊ व 5 फीसदी को उत्कृष्ट शिक्षा देकर राष्ट्र निर्माण का सपना देखना बेमानी: मनीष सिसोदिया

पूर्व सांसद व साहित्यकार शंकर दयाल सिंह की 83 वीं जयंती के उपलक्ष्य में हुआ शंकर स्मृती प्रतिष्ठान द्वारा वेबिनार का आयोजन..देश विदेश से जुड़े वक्ता,श्रोता। नयी दिल्ली: रविवार शाम पूर्व सांसद व साहित्यकार डॉ शंकर दयाल सिंह की 83 वें जयंती के उपलक्ष्य में एक वेबिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन दिल्ली …

95 फीसदी को कामचलाऊ व 5 फीसदी को उत्कृष्ट शिक्षा देकर राष्ट्र निर्माण का सपना देखना बेमानी: मनीष सिसोदिया Read More »

इन किसानों से प्रधानमंत्री ने किया सीधा संवाद,पूछा…कैसा है नया कृषि कानून

नयी दिल्ली: दिल्ली के सभी बोर्डर पर एक माह से ज्यादा वक्त से चल रहे किसानों के प्रदर्शन के बीच जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर किसान सम्मान निधि के वितरण कार्यक्रम में किसानों के संवाद करने आये तो उन्होंने 6 राज्यों के इन किसानों से बात …

इन किसानों से प्रधानमंत्री ने किया सीधा संवाद,पूछा…कैसा है नया कृषि कानून Read More »

बोले रविशंकर ..चुनाव में मिली हार की खीझ में किसानों को बरगला रहे हैं विपक्षी

नयी दिल्ली: कृषि कानून को लेकर एक तरफ अन्न दाता पीछे हटने के मूड में नहीं लगता और उसे कृषि संबंधी तीनों बिल के निरस्त किये जाने से कम कुछ भी मंजूर नहीं है, वहीं सरकार अपनी तरफ से किसानों को यह समझाने की हर सं​भव कोशिश कर रही है कि ये कानून किसानों के …

बोले रविशंकर ..चुनाव में मिली हार की खीझ में किसानों को बरगला रहे हैं विपक्षी Read More »

आपने थोड़ा-थोड़ा हम सब को भी मार डाला मित्र

जाने माने शिक्षाविद, साहित्यकार और अंगचंपा के संपादक, हिन्दी विभाग, तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर व अंगिका भाषा के विभागाध्यक्ष डॉक्टर प्रेम प्रभाकर का देहांत शुक्रवार को सुबह दिल का दौरा पड़ने हो गया। वे 63 वर्ष के थे। इस रचनाधर्मी के आकस्मिक निधन से मर्माहत उनसे जुड़े हुए लोगों को समझ नहीं आ …

आपने थोड़ा-थोड़ा हम सब को भी मार डाला मित्र Read More »