Farmer Grievances

असम में धान की खरीद बंद

गुवाहाटी: जब देशभर के किसान नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं, असम के किसान धान की सरकारी खरीद पूरीतरह बंद होने से परेशान हैं। कोरोनाजन्य देशबंदी की वजह से इस साल धान की खरीद देर से शुरु हुई। फिर अचानक केन्द्र सरकार के निर्देश से यह पूरी प्रक्रिया बंद हो गई। इसलिए …

असम में धान की खरीद बंद Read More »

किसानों को समझाते,किसान नेताओं को हड़काते, विपक्ष के अतीत का आईना दिखाते मोदी

नयी दिल्ली: अपने चिरपरिचित अंदाज में आज एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से मुखर दिखे। निशाने पर किसान नेता और विपक्ष रहा। राज्यसभा में जब राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब देने आये तो वे दो माह से ज्यादा से चल रहे किसान आंदोलन को लेकर बचाव की मुद्रा में कदापी नहीं थे। उन्होंने इस …

किसानों को समझाते,किसान नेताओं को हड़काते, विपक्ष के अतीत का आईना दिखाते मोदी Read More »

गुरनाम चढूनी और राकेश टिकैत के सियासी खेल के भेंट न चढ़ जाये किसानों का शांतिपूर्ण आंदोलन

दिल्लीः तीन कृषि कानूनों के वापसी के लिए आंदोलनरत वैसे तो कई किसान संगठन हैं। कई नेता हैं लेकिन दो ऐसे किसान नेता हैं जिनकी वजह से किसान आंदोलन फूट के कगार पर खड़ा है। दोनों की अपनी.अपनी राजनीतिक महत्वकांक्षांए हैं जिसके कारण गैर राजनीतिक कहा जाने वाला किसान संगठन राजनीतिक दलों का मोहरा साबित …

गुरनाम चढूनी और राकेश टिकैत के सियासी खेल के भेंट न चढ़ जाये किसानों का शांतिपूर्ण आंदोलन Read More »

गैर राजनीतिक किसान आंदोलन को लेकर सदन में राजनीतिक दलों का हल्ला बोल

नयी दिल्ली: दिल्ली के बोर्डर पर किसान जमे हुए हैं। कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर कांग्रेस के सांसद संसद परिसर में स्थित महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने प्रदर्शन किया। संसद के दोनों सदनों में तीन कृषि कानून को लेकर हंगामा हुआ। राज्यसभा में जब विपक्षी सांसदों ने कृषि कानून को लेकर …

गैर राजनीतिक किसान आंदोलन को लेकर सदन में राजनीतिक दलों का हल्ला बोल Read More »

कृषि कानून के खिलाफ किसानों के समर्थन में एकजुट हुए नागरिक संगठन..बताया जनविरोधी

पटना: बिहार की राजधानी पटना में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की आवाजें समय के साथ मुखर होते जा रही हैं। एक तरफ विपक्षी राजनीतिक दल केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 30 जनवरी को पूरे बिहार में मानव श्रृंखला बनाने की मांग कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ पटना का …

कृषि कानून के खिलाफ किसानों के समर्थन में एकजुट हुए नागरिक संगठन..बताया जनविरोधी Read More »

राजपथ पर टैंक, सड़कों पर ट्रैक्टर से सुसज्जित गणतंत्र… रंग में भंग डालने का षड्यंत्र नाकाम

नयी दिल्ली: 26 जनवरी। गणतंत्र का पर्व। किसानों का तीन कृषि कानूनों की वापसी को लेकर दो माह से ज्यादा समय से जारी आंदोलन। किसान संगठन काफी पहले से लगातार ये कहते रहे कि इस बार राजपथ पर टैंक के साथ ट्रैक्टर भी चलेगा। इसको लेकन बातें सरकार के सामने भी रखी गईं। मामला सुप्रीम …

राजपथ पर टैंक, सड़कों पर ट्रैक्टर से सुसज्जित गणतंत्र… रंग में भंग डालने का षड्यंत्र नाकाम Read More »

कृषि कानून के विरोध एकजुट हुआ पटना का नागर समाज,कहा.. देश की थाली से रोटी छीने जाने की हो रही है कवायद

पटना: तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ एक तरफ दिल्ली में किसान बोर्डर को घेर कर सरकार पर दबाव बना रहे हैं वहीं देश के अन्य ईलाको में भी इसे लेकर धरना-प्रदर्शन हो रहे हैं। यहां तक कि अब किसानों को नागरिक संगठनों का भी साथ मिलने लगा है। कुछ इसी तरह की कवायद विगत …

कृषि कानून के विरोध एकजुट हुआ पटना का नागर समाज,कहा.. देश की थाली से रोटी छीने जाने की हो रही है कवायद Read More »

औने पौने दाम पर खुले बाजार में धान बेचने को मजबूर हैं बिहार के किसान

पटना: बिहार धान की सरकारी खरीद की मंथर गति से किसान नाराज हैं। वे चाहते हैं कि खरीद की आखिरी तारीख को मार्च तक बढ़ाया जाए। मालूम हो कि आमतौर पर धान की खरीद ३१ मार्च तक होती रही है, इस बार इसे घटाकर ३१ जनवरी तक कर दिया गया है,लेकिन खरीद की रफ्तार जस …

औने पौने दाम पर खुले बाजार में धान बेचने को मजबूर हैं बिहार के किसान Read More »

सरकार और किसान के बीच रिश्ता पवित्र..तो फिर वो तीसरा कौन है जो नहीं होने दे रहा वार्ता सफल

नयी दिल्ली: किसान और सरकार के नुमाईंदो के बीच 11 दौर की लगभग 45 घंटे की बैठक। नतीजा सिफर। आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। इस पड़ाव पर याद आती है धूमिल की वो कविताएक आदमीरोटी बेलता हैएक आदमी रोटी खाता हैएक तीसरा आदमी भी हैजो न रोटी बेलता है, न रोटी खाता हैवह सिर्फ़ …

सरकार और किसान के बीच रिश्ता पवित्र..तो फिर वो तीसरा कौन है जो नहीं होने दे रहा वार्ता सफल Read More »

अपने-अपने खूंटे को थाम कर बैठे हैं अन्नदाता व रहनुमा..नतीजा वार्ता बेनतीजा

नयी दिल्ली: वैसे तो किसान आंदोलन में पंजाबी और हरियाणवी गीतों ने समां बाधा हुआ है लेकिन आज एक भोजपुरी कहावत के जरिए किसान आंदोलन में चल रही गतिविधियों को आप बखूबी समझ सकते हैं।भोजपुरी में एक कहावत है बाकी सब तो ठीक बा,लेकिन खूंटा उहंई गड़ाई। लगभग 59 दिन से ज्यादा वक्त से दिल्ली …

अपने-अपने खूंटे को थाम कर बैठे हैं अन्नदाता व रहनुमा..नतीजा वार्ता बेनतीजा Read More »