Gandhian thought

गांवों के पुनरुद्धार की है जरूरत…बाहर रह रहे लोग निभा सकते हैं उत्प्रेरक की भूमिका

शैलेष कुमार सिंह गोराईंपुर और बोधाछपरा दोनों गांव गंगा के दियारा की ओर बसे हैं। इस गांव में वैसे तो हर जाति के लोग हैं, लेकिन जमीन पर मालिकाना हक राजपूतों का रहा है। दोनों गांव के बीच आपसी सामंजस्य, मेल-जोल रहता था। गांव पूरी तरह से खेती पर निर्भर था। लोग खेती के साथ …

गांवों के पुनरुद्धार की है जरूरत…बाहर रह रहे लोग निभा सकते हैं उत्प्रेरक की भूमिका Read More »

स्मृतियों में बसा है गांव रसलपुर

विभाष कुमार मिश्र मैथलिशरण गुप्त ने साकेत में , सीता के मन में उनके वास्तविक घर कौन है इस संदर्भ में एक मार्मिक प्रसंग लिखा है । जिसमें वे सीता के मन के द्वंद्व को इस प्रकार लिखते है “ मिथिला मेरा मूल है, आयोध्य मेरा फूल। चित्रकूट को क्या कहूं रहती हूं मैं भूल। …

स्मृतियों में बसा है गांव रसलपुर Read More »

गांव सलेमपुर आज भी अपनी पुरातन परंपराओं को सहेजे हुए है…

प्रो बी एस वर्मा देश बदला, समाज बदला, संस्कार बदले, संस्कृतियां तक बदल गयीं। परंतु भारतीय ग्रामीण परंपराओं ने अपना परिवेश नहीं बदला। हमारा गांव सलेमपुर नहीं बदला। कई संस्कृतियां आईं और गयी, परंतु असली भारत वर्ष आज भी ग्रामीण परिवेश में देखने को मिल जायेगा। ऐसा ही एक गांव है सलेमपुर। जो उत्तर प्रदेश …

गांव सलेमपुर आज भी अपनी पुरातन परंपराओं को सहेजे हुए है… Read More »

दुनिया देखा… पर हर पल सीने में धड़कता रहा है गांव सरोत्तर…

राकेश पांडे, सीएमडी ब्रावो फार्मा व ब्रावो फाउंडेशन नैनों में था रास्ता… हृदय में बसा है गांव साकार होगा जरूर गांव सरोत्तर के तरक्की का सपना..भले छलनी हो जाए पांव!  तो आईए आपको अपने गांव सरोत्तर की ओर लिए चलता हूं।  मोतिहारी का सरोत्तर गांव। आप कह सकते हैं कि हमारा गांव सरोत्तर बाबू साहब …

दुनिया देखा… पर हर पल सीने में धड़कता रहा है गांव सरोत्तर… Read More »

गांव सिरिसिया…आर्थिक संपन्नता से पैदा हुए अभिमान ने गंवई स्वाभिमान को ढ़क दिया

भानु प्रताप सिंह मेरा गांव सिरिसिया बिहार राज्य के आरा जिला में बबुरा के नजदीक गंगा किनारे का गांव है। ग्रामीण जीवन का आधार सरकार मुक्त जीवन जीने की कला पूर्वजों द्वारा संस्कारित था। हर अपने से छोटों को आचार,विचार, व्यवहार निस्वार्थ भाव से न्योछावर कर देता था, जिससे गांव के युवक युवतियां समाज के …

गांव सिरिसिया…आर्थिक संपन्नता से पैदा हुए अभिमान ने गंवई स्वाभिमान को ढ़क दिया Read More »

विस्थापन का दर्द दिल में लिए…गांव से जुड़ा ही रहा मेरा रिश्ता

अंजनी कुमार फिल्म /टी.वी निर्देशक मेरा जन्म मुंगेर जिले के सहूर गांव में हुआ। ये गांव पंडित कार्यानद शर्मा के गांव के रूप में जाना जाता है। यहीं उनका जन्म हुआ था। मेरी मां श्रीमती ज्योतसना शर्मा और पिता श्री धनंजय सिंह दोनो ही शिक्षक थे। बचपना के बाद मां के तबादले के हिसाब से …

विस्थापन का दर्द दिल में लिए…गांव से जुड़ा ही रहा मेरा रिश्ता Read More »

गांव का नाम, बफापुर बांथू… जिला…लोकतंत्र की जननी वैशाली

मेरा गांव कब आबाद हुआ ये तो ठीक-ठीक कहीं दर्ज नहीं है। लेकिन मेरे गांव का नाम बहुत दिलचस्प है: बफापुर बांथू। बफापुर को लेकर गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि इस गांव से जो लगान वसूलते थे वो मुस्लिम थे। बहुत पहले की बात है। अगला शब्द है, बांथू। इसके लिए वो कहते हैं …

गांव का नाम, बफापुर बांथू… जिला…लोकतंत्र की जननी वैशाली Read More »

स्मृतियों के राज प्रसाद में अठखेलियां करता मेरा गांव बेनीपट्टी

आलोक कुमार, आईपीएस स्मृतियों के राज प्रसाद में सबसे खास जगह उस मिट्टी की होती है जिसकी गोद में खेल कर हम पले-बढ़े होते हैं। मेरा गांव बेनीपट्टी की मिट्टी की सोंधी खुशबू, उस देश में पूरब के ललचाउ आसमान में उगले सूरज देवता, नीरव आसमान पर तिरते बादलों से लुकाछिपी करता चांद, और मादक …

स्मृतियों के राज प्रसाद में अठखेलियां करता मेरा गांव बेनीपट्टी Read More »

डॉक्टर भैया के प्रयास से आदर्श गांव बनेगा छोटा सा गांव लोहानीपुर

मंगरूआ गया:सांसदों द्वारा गोद लिये आदर्श गांव की कथा और उसके हालात के विषय में आप अक्सर खबर पढ़ते ही होंगे लेकिन आईये आज आपको गांव लोहानीपुर में लिये चलते हैं जिसे एक प्रवासी भारतीय डॉक्टर ने गोद लेने की बात कही है। जी हां यह गांव लोहानीपुर  गया मुख्यालय से करीब 30 किमी दूर …

डॉक्टर भैया के प्रयास से आदर्श गांव बनेगा छोटा सा गांव लोहानीपुर Read More »

मेरा गांव सजांव… पुरखों ने एक संसार रचा था, हम पूरी शिद्दत से उसे उजाड़ रहे हैं

शिवानंद द्विवेदी मेरा गांव सजांव बिहार सीमा से सटे पूर्वी उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में पड़ता है। मुझे गांव में रहने का ऐसा अवसर शायद बीस साल बाद मिला है। आजकल ‘आपदा में अवसर’ चलन में है। कोरोना नामक इस अदृश्य परिजिवी ने हमें आपदा के अंतहीन लगने वाले दौर में बांध दिया है। …

मेरा गांव सजांव… पुरखों ने एक संसार रचा था, हम पूरी शिद्दत से उसे उजाड़ रहे हैं Read More »