admin

गांव के सामाजिक ताने-बाने में रसूख का संकेत भी देते थे परंपरागत कुंवे

यदि गांव अपना एक विश्व है जिसमें सदियों की सभ्यता और सांस्कृतिक विकास का समुच्चय संचित हुआ दिखता है तो परंपरागत कुंवे के आसपास का सामाजिक आर्थिक ताना-बाना लघु विश्व। इस लघु विश्व में  हर व्यक्ति का अपना अलग अनुभव संचित है। प्रस्तुत है मेरे गांव के कुंओं की कहानी और उससे जुड़ा सामाजिक, वैयक्तिक …

गांव के सामाजिक ताने-बाने में रसूख का संकेत भी देते थे परंपरागत कुंवे Read More »

त्वचा के रखरखाव को लेकर न हो परेशान, यहां है समाधान

पंचायत खबर एक साप्ताहिक श्रृंखला शुरू कर रहा है जिसमें आपको हमारे विशेषज्ञ अपने शरीर, त्वचा के देखभाल से संबंधित जरूरी जानकारी देंगे। इस श्रृंखला की पहली कड़ी में पेश है ब्यूटी विशेषज्ञ शैल पासवान का ये आलेख। सुंदर दिखने की चाहत किसे नहीं होती। अक्सर ये देखा गया है कि हम सुंदर तो होते …

त्वचा के रखरखाव को लेकर न हो परेशान, यहां है समाधान Read More »

बहुत बदला गांव लेकिन आज भी जीवंत है बचपन के गांव की स्मृति

हम सब शहरी जरूर हो गए लेकिन आज भी हमारे अंदर गांव वही युवा है! जब स्मृतियों को हम कुरेदतें हैं तो बचपन के दिन ,जो गाँव में बीते हैं याद आने लगतें हैं। मन सोचने पर मजबूर होता है कि कितना सुंदर था हमरा गांव और वहां की रीति-रिवाजें। पर्व-त्योहार, खानपान, रहन-सहन भाईचारा भी …

बहुत बदला गांव लेकिन आज भी जीवंत है बचपन के गांव की स्मृति Read More »

कृषि कानून के खिलाफ किसानों के समर्थन में एकजुट हुए नागरिक संगठन..बताया जनविरोधी

पटना: बिहार की राजधानी पटना में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की आवाजें समय के साथ मुखर होते जा रही हैं। एक तरफ विपक्षी राजनीतिक दल केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 30 जनवरी को पूरे बिहार में मानव श्रृंखला बनाने की मांग कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ पटना का …

कृषि कानून के खिलाफ किसानों के समर्थन में एकजुट हुए नागरिक संगठन..बताया जनविरोधी Read More »

औने पौने दाम पर खुले बाजार में धान बेचने को मजबूर हैं बिहार के किसान

पटना: बिहार धान की सरकारी खरीद की मंथर गति से किसान नाराज हैं। वे चाहते हैं कि खरीद की आखिरी तारीख को मार्च तक बढ़ाया जाए। मालूम हो कि आमतौर पर धान की खरीद ३१ मार्च तक होती रही है, इस बार इसे घटाकर ३१ जनवरी तक कर दिया गया है,लेकिन खरीद की रफ्तार जस …

औने पौने दाम पर खुले बाजार में धान बेचने को मजबूर हैं बिहार के किसान Read More »

अपने-अपने खूंटे को थाम कर बैठे हैं अन्नदाता व रहनुमा..नतीजा वार्ता बेनतीजा

नयी दिल्ली: वैसे तो किसान आंदोलन में पंजाबी और हरियाणवी गीतों ने समां बाधा हुआ है लेकिन आज एक भोजपुरी कहावत के जरिए किसान आंदोलन में चल रही गतिविधियों को आप बखूबी समझ सकते हैं।भोजपुरी में एक कहावत है बाकी सब तो ठीक बा,लेकिन खूंटा उहंई गड़ाई। लगभग 59 दिन से ज्यादा वक्त से दिल्ली …

अपने-अपने खूंटे को थाम कर बैठे हैं अन्नदाता व रहनुमा..नतीजा वार्ता बेनतीजा Read More »

किसान आंदोलन के बीच …संसद के विशेष सत्र के लिए अभियान पर निकले हैं साईनाथ

कृषि और संबंधित विषयों पर विचार करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग लेकर वरिष्ठ पत्रकार पी साईनाथ देशव्यापी अभियान चला रहे हैं। उनका कहना है कि कृषि और किसान पहले से ही संकट में हैं, नए कृषि कानून उस संकट को बेतहाशा बढ़ाने वाले हैं। तीनों कानून अवांछित और असंवैधानिक हैं। …

किसान आंदोलन के बीच …संसद के विशेष सत्र के लिए अभियान पर निकले हैं साईनाथ Read More »

चढूनी के सियासी मंशा की भेंट न चढ़ जाये किसान आंदोलन, करोड़ों वसूलने व राजनीतिक साठगांठ के आरोप के पीछे है पुख्ता वजह..

चंडीगढ़: लगी को आग कहते हैं, बुझी को राख। एक बार आग लग गई तो लग गई। धुआं तो उठता ही रहेगा। दिल्ली के सभी बोर्डर घेर के हजारों की संख्या में पिछले 56 दिन से बैठे किसान भले ही सर्द भरी ठिठुरती रातों के गुजरने और नयी ​सुबह होने का एक-एक दिन इंतजार कर …

चढूनी के सियासी मंशा की भेंट न चढ़ जाये किसान आंदोलन, करोड़ों वसूलने व राजनीतिक साठगांठ के आरोप के पीछे है पुख्ता वजह.. Read More »

जीत के मद्देनजर गोटी भिड़ा रहे हैं पंचायत चुनाव के संभावित दावेदार

बनारस: उत्तर प्रदेश में गंवई सरकार यानी पंचायत चुनाव का बिगुल बज जाने से गांव के प्रधानों की धड़कने बढ़ गई हैं। सभी अपनी-अपनी सीट बरकरार रखने के लिए हर तरह के जतन कर रहे हैं। वोटरों को भी खुश करने का हर संभव प्रयास किया रहा है। हालांकि यह काम इतना आसान नहीं है। …

जीत के मद्देनजर गोटी भिड़ा रहे हैं पंचायत चुनाव के संभावित दावेदार Read More »

बिहार में खुले स्कूल, बच्चों में उत्साह,माता-पिता आशंकित

पटना: 9 वीं कक्षा की छात्रा बबली ने कल शाम ही नीतीश कुमार ​द्वारा दिये गये साईकिल को झाड़—पोंछ के तैयार कर लिया है। ठीक 9 माह बाद स्कूल की कक्षाएं लगने वाली हैं। हालांकि मुनिया ने स्कूल के शिक्षकों की मदद से आॅन लाईन पढ़ाई जारी रखा था। लेकिन इंटरनेट की कनेक्टिवटी के कारण …

बिहार में खुले स्कूल, बच्चों में उत्साह,माता-पिता आशंकित Read More »