yogi aditynath

भुखमरी के कगार पर हैं मिट्टी का बर्तन बनाकर पेट पालने वाले कुम्हार

डॉ. सत्यवान सौरभ कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन ने मिट्‌टी बर्तन बनाने वाले कारीगरों के सपनों को भी चकनाचूर कर दिया है। इन्होने मिट्टी बर्तन बनाकर रखे लेकिन बिक्री न होने की वजह से खाने के भी लाले पड़ गए हैं। लेकिन अब न तो चाक चल रहा है और न ही दुकानें खुल रही …

भुखमरी के कगार पर हैं मिट्टी का बर्तन बनाकर पेट पालने वाले कुम्हार Read More »

यूं बदला चंदवारा..प्रधान प्रकाशिनी जायसवाल ने निभाई प्रेरक की भूमिका

देश में बेहतर काम करने वाली पंचायतों को प्रत्येक वर्ष पंचायती राज दिवस पर राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जाता है। कुछ पंचायतों को पंडित दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार दिए जाते हैं तो कुछ पंचायतों को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा अवार्ड। इसके साथ ही कुछ पंचायतों को बाल मैत्री अवार्ड से भी …

यूं बदला चंदवारा..प्रधान प्रकाशिनी जायसवाल ने निभाई प्रेरक की भूमिका Read More »

जनता का, जनता के लिए, जनता द्वारा चुनी हुई सरकार दायित्व भूल, सियासत में उलझी

 मनीष अग्रहरि  ओ मजदूर! ओ मजदूर ! तू सब चीजो का कर्मा,तू ही सारी सुविधाओं से दूर लखनऊ: काल बने कोरोना मर्ज के दौर में जिस तरह से मजदूरों पर सरकारी सितम ढ़ाया जा रहा है, ये लाइने बेसहारा, मजबूर, मजलूम, मजदूरों के लिए बिल्कुल सही साबित होती है। पहले तो शहरो के पूंजीपतियों ने …

जनता का, जनता के लिए, जनता द्वारा चुनी हुई सरकार दायित्व भूल, सियासत में उलझी Read More »

बेटी ज्योती का यशोगान भूल..व्यवस्था पर शर्माना शुरू कीजिए हुजूर

मंगरूआ नयी दिल्ली: मंजिल उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता हौंसलों से उड़ान होती है। 13 वर्षीय ज्योति का सपना था कि उसे किसी भी तरह अपने ​बीमार पिता को सुरक्षित अपने गांव पहुंचा देना है। उसके पास पंख तो थे नहीं, हां हौसला था, और …

बेटी ज्योती का यशोगान भूल..व्यवस्था पर शर्माना शुरू कीजिए हुजूर Read More »

पिपरसन पंचायत के ग्राम प्रधान सर्वेश जायसवाल ने कराया राहत सामाग्री का वितरण

आलोक रंजन सिद्धार्थ नगर: कोरोना महामारी के इस दौर में सबसे ज्यादा प्रभावित यदि कोई हुआ है तो वो हैं गांव। गांव का लड़का शहर में कामकाज करता,लेकिन शहर में काम काज ठप। ऐसे में क्या हो, तो वह चल पड़ा गांव के रास्ते। गांव पहुंचा तो खतरा उत्पन्न हो गया कि कहीं गांव में संक्रमण …

पिपरसन पंचायत के ग्राम प्रधान सर्वेश जायसवाल ने कराया राहत सामाग्री का वितरण Read More »

मैं बरिया समुद्र हूं…

राकेश सिंह मै प्रतापगढ का बरिया समुद्र गांव हूं। अमृत फल आंवला की पहचान हूं। हां मै स्वीकार करता हूं कि मुझे पराई आधुनिकता ने कुछ बदला जरूर है। फिर भी मै इतना भी नहीं बदला की मेरे अपने पहचान न सकें। मै अपनी जड़ों को अभी भी पकड़े हुए हू। जो हमसे दूर चले …

मैं बरिया समुद्र हूं… Read More »

गांव का पुनर्निर्माण:ग्राम स्वराज्य ही विकल्प

तीसरी सरकार अभियान के संयोजक डॉ चंद्रशेखर प्राण पंचायती राज व्यवस्था को उसके वास्तविक स्वरूप में जमीन पर लागू किया जा सके इसके लिए सतत रूप से प्रयासरत है। उन्होंने यथावत पत्रिका में इस विषय पर एक लंबा लिखा है। उस लेख को पंचायत खबर सीरिज के रूप में आपके सामने प्रस्तुत कर रहा है। …

गांव का पुनर्निर्माण:ग्राम स्वराज्य ही विकल्प Read More »

प्रवासी मजदूर बोझ नहीं, हमारी तरक्की के देवदूत हैं

तरक्की की राह। प्रवासी मजदूरों के घर वापसी के बाद, क्या हो आगे का रोड मैप। पंचायत खबर संभावनाओं और उम्मीदों की कड़ी दर कड़ी आपके सामने लाएगा। पढते रहिए, पढाते रहिए। प्रवासी मजदूरी बोझ नहीं हमारी तरक्की के देवदूत हैं। इस कड़ी में पढ़िए पंचायत खबर के रोविंग एडिटर कमलेश कुमार सिंह की ये …

प्रवासी मजदूर बोझ नहीं, हमारी तरक्की के देवदूत हैं Read More »

तालाबंदी में आई गांव की याद, खत्म होते ही शहर लौटना चाहते हैं श्रमिक

प्राक्सिस ने कराया अध्ययन, जाना लॉक डाउन में गांव वापस लौटने वाले श्रमिकों का हाल बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश लौटने में कामयाब हुए 238 प्रवासी श्रमिकों से की गई  बातचीत संतोष कुमार सिंह नयी दिल्ली: शहर बसाने वाले अब गांव के रास्ते में हैं, ये चुनौती नहीं गांव के लिए अवसर है। केंद्र सरकार …

तालाबंदी में आई गांव की याद, खत्म होते ही शहर लौटना चाहते हैं श्रमिक Read More »

एक इंजीनियर की रूफ गार्डन में गुलजार होता जीवन और खिलखिलाते पौधे

गोविंद नारायण सिंह बरेली: पेड़ पौधे हमारे जीवन का बिल्कुल वैसा ही आधार है जैसे भोजन और जल । हालांकि भोजन और जल भी अप्रत्यक्ष रूप से बहुत हद तक पौधों पर निर्भर है । आदिकाल से ही मानव पेड़ पौधों की अहमियत समझता था ,प्रकृति की अहमियत जानता था इसीलिए दुनिया में विकसित हर …

एक इंजीनियर की रूफ गार्डन में गुलजार होता जीवन और खिलखिलाते पौधे Read More »