जल संरक्षण

गांधी के चंपारण सत्याग्रह का साक्षी रहा पूर्वी चंपारण के ऐतिहासिक तेतरिया गांव का जल आॅडिट

शैल मुजफ्फरपुर से 45 किलोमीटर दूर पूर्वी चंपारण जिले यानी मोतिहारी में स्थित ऐतिहासिक तेतरिया गांव। बिहार के अन्य गांवो की तरह ही इस गांव में अलग-अलग जाती-वर्ण के लोग रहते हैं। 22 टोला का गांव तेतरिया,अलग-अलग टोलों की अलग-अलग आबादी। कुल मिलाकर तेतरिया पंचायत की आबादी 21,000 हजार है और लगभग 8000 मतदाता हैं। …

गांधी के चंपारण सत्याग्रह का साक्षी रहा पूर्वी चंपारण के ऐतिहासिक तेतरिया गांव का जल आॅडिट Read More »

कदम-कदम पर कुओं का शहर कहे जाने वाले पटना में ढूंढ़े नहीं मिलते कुएं

अमरनाथ झा पटना: बरसात के दिनों में जलभराव के कारण जब वर्तमान पटना में नारकीय स्थि​ती हो जाती है और कई-कई दिनों तक सड़क पर पानी जमा रहता है तो याद आता है कुओं का शहर पटना से जुड़ा अतीत और उससे जुड़ी सुखद स्मृतियां। तब शायद यह अंदेशा बहुत कम लोगों को होता होगा …

कदम-कदम पर कुओं का शहर कहे जाने वाले पटना में ढूंढ़े नहीं मिलते कुएं Read More »

बारह वर्ण, 22 टोले में बसा है मुजफ्फरपुर जिले का जारंग पश्चिमी पंचायत.. हरेक जाती के टोले में अलग-अलग कुआं

अमरजीत पासवान गायघाट: मुजफ्फरपुर जिले का असिया गांव। यह गांव गायघाट प्रखंड के जारंग पश्चिम पंचायत में है। यदि पूरे पंचायत को केंद्र में रखकर परंपरागत जल स्रोतों मसलन, कुएं,तालाब, पोखर, मन यानी न​दी जैसे साधनों का जल आडिट आपके सामने रखूं तो सबसे पहले जारंग पश्चिमी पंचायत के से जुड़े गांवों की चर्चा समीचिन …

बारह वर्ण, 22 टोले में बसा है मुजफ्फरपुर जिले का जारंग पश्चिमी पंचायत.. हरेक जाती के टोले में अलग-अलग कुआं Read More »

पटना जिले के परसा गांव के कुओं और पानी की व्यवस्था ने यूं बदला ग्रामीण जीवन

प्रतिमा कुमारी पासवान पानी रे पानी,तेरी भी ऐसी कहानी,तुझसे है जीवनधारा,लेकिन मानवों ने ही किया तेरा भी वारा न्यारा, सारे पाप भी तुझमें धोए,सभी अनुष्ठानो में भी लेते तेरा सहारा,जिससे पूरा जीवन से मरण तक बिना पानी बिन जीवन शून्य है। तब भी पानी को पूंजीपतियों के हाथों बेच दिया जाता है, पानी ही जीवन …

पटना जिले के परसा गांव के कुओं और पानी की व्यवस्था ने यूं बदला ग्रामीण जीवन Read More »

सुरवारि टोला से सैदपुर मठिया तक (झौवा पंचायत) के कुएं-तालाब का ऑडिट

  हरेन्द्र प्रसाद सिंह  जल और जीवन अभिन्न हैं। मानव और कुएं का संबंध आदिकाल से प्रमाणित होता है। जल बिन जीवन की कल्पना व अस्तित्व असंभव है। जल प्रकृति की अनुपम देन है। अमृतसो, वह भी पर्याप्त। आदिकाल से मानव जल स्रोतों के निकट अपना आश्रय बनाकर रहता आया है। नदी-समुद से दूर जब …

सुरवारि टोला से सैदपुर मठिया तक (झौवा पंचायत) के कुएं-तालाब का ऑडिट Read More »

परंपरागत कुओं को बिसरा.. हर घर नल जल तक सरपट दौड़ता बोधा छपरा,गोराईंपुर और पकौलिया गांव का जल ऑडिट

निरंजन कुमार सिंह पूरूब के चंदरिया से निकल अंगरिया, लेहू अईसन भईल आसमान गांव के ईनारवा पर लड़िकन ​सब के टोलियां गोल—गोईयां बांटी खेले गुल्ली, डंडा,गोलियां… खैर अब गांव के ईनार यानी कुओं पर लड़कों की टोली नहीं दिखाई देती और न ही दिखाई देती हैं पर्व-त्योहार, शादी-ब्याह के मौके पर कुआं पूजती स्त्रियां। उपरोक्त …

परंपरागत कुओं को बिसरा.. हर घर नल जल तक सरपट दौड़ता बोधा छपरा,गोराईंपुर और पकौलिया गांव का जल ऑडिट Read More »

वैशाली के गराही ग्राम पंचायत और उसके आसपास के जल स्रोतों का ऑडिट..दूसरा भाग

डॉ. शंभु कुमार सिंह जैसाकि पहले भाग में वर्णन किया गया है, गराही ग्राम पंचायत में जल स्रोतों की कोई कमी नहीं रही। हालांकि इस पंचायत में कोई नदी नहीं बहती है परंतु नदी जैसा ही नजारा बरसात में चौरों का होता था। मोहिउद्दीन पुर गराही और चक हुदहुद गांवों के पश्चिम उत्तर पानी का …

वैशाली के गराही ग्राम पंचायत और उसके आसपास के जल स्रोतों का ऑडिट..दूसरा भाग Read More »

वैशाली के गराही ग्राम पंचायत और उसके आसपास का जल स्रोतों (कुआं) का ऑडिट

डॉ शंभु कुमार सिंह वैशाली जिलान्तर्गत गराही ग्राम पंचायत पड़ता है जिसमें मुकुंदपुर गराही ,महिउद्दीनपुर गराही, कमालपुर, चकमलही जो दरअसल चकबाजो मलाही है, बंगरा, मेथुरा पुर और धंधुआ का लंका टोला मुख्यतः आता है। गांव में पहले  पीने हेतु पानी के लिये केवल कुआं का ही उपयोग किया जाता था। गराही छोटा सा ही गांव …

वैशाली के गराही ग्राम पंचायत और उसके आसपास का जल स्रोतों (कुआं) का ऑडिट Read More »

ग्रामीण पेयजल आपूर्ति प्रणाली की निगरानी के लिए सेंसर आधारित प्रणाली की पहल

नई दिल्ली: गांवों में ग्रामीण पेयजल आपूर्ति प्रणाली की निगरानी के लिए, केन्द्र सरकार के जल शक्ति मंत्रालय ने डिजिटल मार्ग अपनाने का निर्णय लिया है। छह लाख से अधिक गांवों में जल जीवन मिशन के कार्यान्वन की प्रभावी निगरानी के लिए सेंसर आधारित आईओटी उपकरण का इस्तेमाल करने का फैसला लिया गया है। इसके …

ग्रामीण पेयजल आपूर्ति प्रणाली की निगरानी के लिए सेंसर आधारित प्रणाली की पहल Read More »

सरकार ने जल संसाधन के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच सहयोग को मंजूरी दी

जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग तथा जापान के भूमि, आधारभूत संरचना, परिवहन और पर्यटन मंत्रालय के जल और आपदा प्रबंधन ब्यूरो के बीच सहयोग को लेकर एक करार किया गया। इसके तहत दोनों देशों के बीच सूचना, ज्ञान, प्रौद्योगिकी और विज्ञान आधारित अनुभव के आदान-प्रदान को बढ़ाने के …

सरकार ने जल संसाधन के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच सहयोग को मंजूरी दी Read More »