नदी विकास

गांव की तस्वीर बदलने को काफी है एक समृद्ध तालाब

झारखंड के धनबाद में सरकारी मदद से बन रहे हैं ऐसे सीढ़ीदार तालाब। धनबाद के सैकड़ों सुव्यवस्थित तालाब दे रहे जल संरक्षण की सीख, मत्स्य पालन, खेती, बागवानी सहित ग्रामीणों को मुहैया करा जीने का जरिया, किसानों की खाली-बंजर जमीन पर बन रहे तालाब बलवंत कुमार धनबाद:अब तालाबों के प्रति अवधारणा बदलने का वक्त आ …

गांव की तस्वीर बदलने को काफी है एक समृद्ध तालाब Read More »

गाद से लदी नदियों की सौगात है यह बाढ़

अमरनाथ झा चंपारण:बिहार के पश्चिम-उत्तर छोर पर पश्चिम चंपारण जिले के एक चॅंवर से निकलती है नदी सिकरहना, जो नेपाल की ओर से आने वाली अनेक छोटी-छोटी जलधाराओं का पानी समेटते हुए चंपारण, मुजफफरपुर, समस्तीपुर जिलों से होकर खगड़िया जिले मेें गंगा में समाहित हो जाती है। यह पूरी तरह मैदानी नदी है और गंडक …

गाद से लदी नदियों की सौगात है यह बाढ़ Read More »

पंचायत खबर टोली कभी भरती थी तमसा नदी का पेट,अपने आंचल में बसे सैकड़ों गांवों की प्यास बुझाती थी नदी, लेकिन अब हुई बेजान वैज्ञानिकों का दावा, गंगा के अस्तित्व के लिए गंगा बेसिन की नदियों का जीवित रहना जरूरी।  मऊ: गंगा नदी को बचाने को लेकर रोज बैठक की जाती है। यहां तक की …

Read More »

सिर्फ नदियों से ही नहीं बनेगा पूरा देश स्वच्छ

जल को कम खर्च करना और नदियों को मैला होने से बचाना, दोनों अंत में हमें एक ही लक्ष्य की ओर ले जाते हैं।   बिना स्वच्छ नदियों के स्वच्छ भारत नहीं हो सकता है, और स्वच्छ नदियां बिना स्वच्छ भारत के नहीं हो सकतीं। अपने आस-पास देखकर तो ऐसा लगता है कि सभी जगह …

सिर्फ नदियों से ही नहीं बनेगा पूरा देश स्वच्छ Read More »

गंगा में गाद की समस्या..क्या है चितले समिति की सुझाव

अमरनाथ झा गंगा के गाद-विमुक्तिकरण के उपाय सुझाने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा गठित चितले समिति ने गाद का वार्षिक बजट बनाने समेत कई सिफारिशें की हैं और इस मामले को किसी तकनीकी संस्थान को सौंप देने का सुझाव दिया है जो मोरफोलाॅजीकल (आकृति वैज्ञानिक) और बाढ़ की आवृत्ति का अध्ययन करके गाद की पहुंच …

गंगा में गाद की समस्या..क्या है चितले समिति की सुझाव Read More »

ओ गंगा बहती हो क्यों ?

ध्रुव गुप्त का फेस बुक पोस्ट.. साभार उत्तराखंड में गंगा की अविरलता और निर्मलता के लिए हरिद्वार का आध्यात्मिक केंद्र ‘मातृ सदन’ हमेशा से ही प्रतिबद्ध और आंदोलनरत रहा है। गंगा में अवैध खनन के विरुद्ध मातृ सदन समय-समय पर अपने सन्यासियों की तपस्या और अनशन के माध्यम से लोगों को जागरूक करता रहा है। …

ओ गंगा बहती हो क्यों ? Read More »

तमसा नदी का दर्द .. कगार पर जल रहे अंगार

पंचायत खबर टोली  मऊ : नदी की सुरक्षा व स्वच्छता को लेकर वैसे तो बड़े—बड़े दावे हैं। राष्ट्रीय स्तर पर निरंतर प्रयास किया जा रहा है। नमामि गंगे परियोजना में देव नदी गंगा व उसकी सहायक नदियों की साफ-सफाई को लेकर भारी-भरकम पैसा खर्च किया जा रहा है। लेकिन जमीन पर हकिकत क्या है और …

तमसा नदी का दर्द .. कगार पर जल रहे अंगार Read More »

गंगा की अविरलता से ही निर्मलता का सपना साकार होगा:नीतीश कुमार

कन्नौज से वाराणसी तक गंगा के गंदगी पर बात होती है, लेकिन गंगा की अविरलता पर ध्यान नहीं जाता। अब समय आ गया कि अविरल धारा पर बात की जाये: जयराम रमेश संतोष कुमार सिंह नयी दिल्ली:बिहार के एक बड़े हिस्से में गंगा बहती है लेकिन गंगा में गाद की समस्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही …

गंगा की अविरलता से ही निर्मलता का सपना साकार होगा:नीतीश कुमार Read More »

सभ्यता बचानी है, तो नदियां बचानी होगी- शिवराज सिंह चौहान

संतोष कुमार सिंह अक्टूबर में प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र काशी में गंगा संसद का आयोजन होगा- स्वामी  अभिमुक्तेश्वरानन्द नयी दिल्ली: मानव सभ्यता का अस्तित्व बचाने के लिए नदियों को बचाना होगा। लोगों की जिन्दगी और बच्चों का भविष्य बचाने के लिए नदियों का पुनर्जीवन अति आवश्यक है। जब तक हम प्रकृति को आदर नहीं देंगे, …

सभ्यता बचानी है, तो नदियां बचानी होगी- शिवराज सिंह चौहान Read More »

गंगा-यमुना ही नहीं सभी नदियों को जीवित ईकाईं मानते हुए कानून बने: राजेंद्र सिंह

संतोष कुमार सिंह नयी दिल्ली: नदियों के पुर्नजीवन के सवाल पर एक तरफ सरकार चिंतित दिख रही है वहीं दूसरी ओर पानी पर काम वाले जनसंगठन भी नदियों और देश में पानी की समस्या देखकर और उसके कारन उत्पन्न होने वाली समस्या को लेकर चिंतित है। यही कारण है कि एकतरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नर्मदा …

गंगा-यमुना ही नहीं सभी नदियों को जीवित ईकाईं मानते हुए कानून बने: राजेंद्र सिंह Read More »