Delhi/NCR

समर्पण ने पूरे समर्पण के साथ मनाया अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस कार्यक्रम, उत्साहित दिखी महिलायें

नयी दिल्ली: अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समर्पण सोशल वेलफेयर ट्रस्ट,झरोदा द्वारा महिलाओं के सम्मान में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर बड़ी संख्या में महिलायें व लड़कियां एकत्रित हुईं और संस्था द्वारा किये गये इस आयोजन में बढ़चढ़ कर भागीदारी की। साथ ही संस्था के अध्यक्ष शैल का हौसला बढ़ाया और आगे …

समर्पण ने पूरे समर्पण के साथ मनाया अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस कार्यक्रम, उत्साहित दिखी महिलायें Read More »

युवा तमन्नाओं को आसमानी उड़ान भरने का हौसला देता ‘समर्पण’

नयी दिल्ली: अक्सर कहा जाता है कि इंसान को आसमान छूने की तमन्ना रखनी चाहिए, लेकिन अपनी जड़ों को कभी नहीं भूलना चाहिए। आज हम आपकी मुलाकात उन चंद लड़कियों से करवायेंगे जो समर्पण सोशल वेलफेयर ट्रस्ट,संगम विहार झरोदा से जुड़कर न सिर्फ अपने पांव को जमीन पर टिकाये रखने का ख्वाब बुन रही हैं …

युवा तमन्नाओं को आसमानी उड़ान भरने का हौसला देता ‘समर्पण’ Read More »

अध्यक्ष जी (चंद्रशेखर) की पार्टी में अध्यक्षी को लेकर घमासान

नयी दिल्ली: समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व केंद्रीय मंत्री कमल मोरारका के देहांत के बाद अध्यक्ष जी यानी पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर द्वारा स्थापित पार्टी में अध्यक्षी को लेकर घमासान मचा हुआ है। एक सप्ताह ही हुए हैं यानी 11 फरवरी को। राजधानी के नारायण दत्त तिवारी भवन में समाजवादी जनता पार्टी …

अध्यक्ष जी (चंद्रशेखर) की पार्टी में अध्यक्षी को लेकर घमासान Read More »

कोरोना महामारी अमावस की रात..सत्यार्थी की पुस्तक पूर्णिमा के चांद का दस्तक: रामबहादुर राय

नयी दिल्ली: गत ​शनिवार इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय कला केंद्र द्वारा नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित कैलाश सत्‍यार्थी की पुस्‍तक ‘‘कोविड-19 सभ्‍यता का संकट और समाधान’’ पर एक परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा की अध्‍यक्षता इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय कला केंद्र के अध्‍यक्ष एवं सुप्रसिद्ध पत्रकार पद्मश्री रामबहादुर राय ने की। जबकि विशिष्‍ट अतिथि के रूप …

कोरोना महामारी अमावस की रात..सत्यार्थी की पुस्तक पूर्णिमा के चांद का दस्तक: रामबहादुर राय Read More »

याद किये गये दिवंगत कमल मोरारका…सजपा चंद्रशेखर की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बलिया में आयोजित करने का हुआ निर्णय

नयी दिल्ली: समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व केंद्रीय मंत्री कमल मोरारका के दिवंगत होने के बाद उनकी अनुपस्थिती में पहली बार समाजवादी जनता पार्टी चंद्रशेखर के कार्यकारिणी की बैठक दिल्ली के नारायण दत्त तिवारी भवन में आयोजित की गई। इस बैठक मेंस्वर्गीय कमल मोरारका व समाजवादी लड़ाका स्वर्गीय मिथिलेस कुमार सिंह …

याद किये गये दिवंगत कमल मोरारका…सजपा चंद्रशेखर की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बलिया में आयोजित करने का हुआ निर्णय Read More »

सरकारी चौपाल में समर्थन… किसान चौपाल में विरोध के बीच..बैक चैनल कृषि बिल पर सहमति का फार्मूला तय

नयी दिल्ली: ठंड बढ़ते जा रही है। साथ ही किसानों का सड़कों पर संग्राम भी। अब तो देश को अन्न के मामले में आत्मनिर्भर बनाने वाला खुद ही भूखे पेट आंदोलन करने का मन बना चुका है। उसे तीन कृषि कानूनों के वापसी से कम कुछ भी मंजूर नहीं। लेकिन बावजूद इसके सियासत के रूख …

सरकारी चौपाल में समर्थन… किसान चौपाल में विरोध के बीच..बैक चैनल कृषि बिल पर सहमति का फार्मूला तय Read More »

हुक्मरान भले पर्दा डालें लेकिन अन्नदाताओं को पता है वो तीसरा आदमी कौन है…

नयी दिल्ली: एक आदमी रोटी बेलता है…एक आदमी रोटी खाता है… एक तीसरा आदमी भी है…जो न रोटी बेलता है, ना रोटी खाता है…वह सिर्फ़ रोटी से खेलता है…मैं पूछता हूँ…यह तीसरा आदमी कौन है? मेरे देश की संसद मौन है।। देश के अन्नदाताओं ने उस तीसरे आदमी को पहचान लिया है और उन्हें पता …

हुक्मरान भले पर्दा डालें लेकिन अन्नदाताओं को पता है वो तीसरा आदमी कौन है… Read More »

बदले-बदले सरकार नजर आते हैं… अन्नदाताओं को अंबानी-अडानी के यार नजर आते हैं

नयी दिल्ली: रूठे रूठे पिया मैं मनाउं कैसेआज न जाने बात हुई क्या क्यों… रूठे मुझसे। देश के अन्नदाताओं की हालात आजकल इस गीत के नायक जैसी हो गई है और उनको मनाने की जिम्मेवारी जिनपर है वो समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर कैसे उन्हें मनाना है। कैसे उन्हें भरोसा दिलाना है कि …

बदले-बदले सरकार नजर आते हैं… अन्नदाताओं को अंबानी-अडानी के यार नजर आते हैं Read More »

अन्नदाता के विश्वास और हुक्मरानों के प्रति अविश्वास से पसरता ही जा रहा है किसान आंदोलन..बढ़ती जा रही है खाई

नयी दिल्ली: रबी के बुआई का मौसम है। लेकिन किसान सड़क पर है। संग्राम में है। हर हाल में जीतना चाहता है। उधर सियासत अच्छे दिन के सपने दिखा रही है। लेकिन किसान आंदोलन की आंच में अच्छे दिन के सपने बौने साबित हो रहे हैं। बातचीत हो रही है लेकिन न तो अन्नदाता हुक्मरान …

अन्नदाता के विश्वास और हुक्मरानों के प्रति अविश्वास से पसरता ही जा रहा है किसान आंदोलन..बढ़ती जा रही है खाई Read More »

“चाणक्य” न ‘हां’ कह पाये और ना ही ‘न’,नतीजा मान मनौव्वल की एक और कोशिश विफल

नई दिल्ली: कृषि कानून के विरोध में आंदोलन के बीच किसान नेताओं के एक धड़े के केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से हुई मुलाकात के बाद बातचीत सुलझने के बजाय और उलझ गई लगती है। बैठक से निकलकर पूर्व वामपंथी सांसद और वामपंथी किसान संगठन से जुड़े हन्नान् मोल्लाह बैठक से बाहर आये तो उन्होंने …

“चाणक्य” न ‘हां’ कह पाये और ना ही ‘न’,नतीजा मान मनौव्वल की एक और कोशिश विफल Read More »