अपने-अपने गांधी की तलाश में नेता, मजदूरों को कोई पूछने वाला नहीं:गोविंदाचार्य

के एन गोविंदाचार्य चंपारन सत्याग्रह शताब्दी वर्ष के अंतर्गत चंपारन जिले में कुछ दिन घूमने, समझने का अवसर प्राप्त हुआ। कई स्थानों पर तो ऐसा लगा कि काल 100 साल पहले ठहर गया है| खेती का तरीका बदल गया है, गोधन नष्ट प्राय है, कारीगर पलायन कर चुके है, चीनी मिलें बंद है या बंद …

अपने-अपने गांधी की तलाश में नेता, मजदूरों को कोई पूछने वाला नहीं:गोविंदाचार्य Read More »