bundelkhand

जखनी गांव के देश का पहला जलग्राम बनने की कथा

उमाशंकर पांडे अक्सर कहा जाता है कि ‘हिम्मते मरदा, मददे खुदा’। लेकिन एक मर्द ही क्यों पूरा का पूरा गांव, और न​ सिर्फ मर्द बल्कि स्त्री पुरूष जब  अपने गांव की तकदीर बदलने में लग जायें तो सिर्फ खुदा ही क्यों, पूरी कायनात उसके सामने नतमस्तक होती है और गांव वालों की खुद के परिश्रम …

जखनी गांव के देश का पहला जलग्राम बनने की कथा Read More »

संपन्नता आई,पर जीवन का रंग चला गया

शिवमंगल सिंह वरिष्ठ पत्रकार गांव में बजुर्गों का डेरा, गलियों में सन्नाटे का पहरा, बुंदेलखण्ड के दूसरे गांवों जैसी हालत है अपने गांव का, हुलिया भी कुछ वैसा ही है। सुबह का उल्लास मायूसी में बदल गया है, गोधूलि की चहचहाहट को खामोशी ने अपने आगोश में ले लिया है। दोपहरी में भी सिर्फ सांय-सांय …

संपन्नता आई,पर जीवन का रंग चला गया Read More »

स्थानीय भागीदारी में छिपा है जल संकट का निदान

भारत डोगरा सामाजिक कार्यकर्ता बुदेलखंड के कुछ गांवों में जल-पंचायतों व जल-सहेलियों से स्थानीय भागीदारी बढ़ाने में काफी सफलता मिली है। जल संरक्षण और संग्रहण के मामले में परंपरागत ज्ञान काफी समृद्ध है। इसका लाभ उठाने की जरूरत है। जिस तरह हमारे देश के अनेक गांवों और बस्तियों से जल संकट के समाचार आ रहे …

स्थानीय भागीदारी में छिपा है जल संकट का निदान Read More »

बुंदेलखंड से दस लाख लोगों का पलायन

अमित त्रिपाठी 3600करोड़ रुपया भी युवाओं को रोजगार नहीं दे सका, नहीं लग सका बुन्देलखण्ड से युवाओं के पलायन पर ब्रेक 2016 में कराये गया था सर्वे। दिल्ली, पंजाब, सूरत, मुंबई, चंडीगढ़ नौकरी की तलाश में जाते हैं यहां के युवा। बांदा: बदहाल बुंदेलखंड से अब तक लगभग 10 लाख लोग पलायन कर चुके हैं। …

बुंदेलखंड से दस लाख लोगों का पलायन Read More »

अम्मां बोले बाहर जा..साहेब बोले भीतर जा

आलोक रंजन, युवा पत्रकार आजकल सोशल मीडिया पर बुंदेलखंड में पानी की कमी और सरकार की सबको शौचालय योजना को लेकर अनोखे तरीके से चर्चा किया जा रहा है ​इस बीच खबर ये है कि बनारस में जिला कल्क्टर ने उन सभी लोगों का नाम राशन कार्ड से हटाने का आदेश दिया है जिनके घर …

अम्मां बोले बाहर जा..साहेब बोले भीतर जा Read More »