संपादकीय

संपादक की कलम से

प्रधानमंत्री मोदी  मेड इन इंडिया की बात कर रहे हैं तो कई विशेषज्ञ मेड इन इंडिया की बजाय मेक इंडिया की वकालत कर रहे हैं, लेकिन मेरी राय है कि मेक इंडिया या मेड इन इंडिया का सपना तब पूरा हो सकता है जब हम मेड इन विलेज, और मेड विलेज की बात करें। अब …

संपादक की कलम से Read More »

संपादक की कलम से

संपादक की कलम से, अभी हाल ही में कई राज्यों में पंचायत चुनाव कराए गए हैं। हर बार की भांति इस बार भी हमारे गांव—गवई, छोटे कस्बों के मतदाताओं ने लोकतांत्रिक प्रक्रिया में बढ—चढकर भागीदारी की। इस भागीदारी से लोकतंत्र मजबूत होता है, और अपेक्षा भी बढती है। ऐसे में चुनी हुई गांव की सरकार,पंचायत …

संपादक की कलम से Read More »