Pm NARENDRA MODI

गांव से नगर बनने की यात्रा में खो गया गांव गजरौला

मेरा गांव गजरौला है जो उत्तर प्रदेश राज्य के अमरोहा ज़िले में स्थित एक नगर व नगर पालिका परिषद है। गजरौला गंगा नदी की पूर्वी ओर राष्ट्रीय राजमार्ग 24 व राष्ट्रीय राजमार्ग ९ पर स्थित है। यह राजमार्ग उसे पश्चिम दिशा में गंगा की दूसरी पार गढ़मुक्तेश्वर से जोड़ता है। बड़ी बात ये है कि …

गांव से नगर बनने की यात्रा में खो गया गांव गजरौला Read More »

सोन नदी के कछार पर बसा मेरा गांव खंडोल

मेरा सौभाग्य है कि मेरा जन्म एक ऐसे गांव खंडोल में हुआ जहां लगभग महिलाएं भोजपुरी बोलती हैं और लगभग पुरुष मगही। इस नाते पुरुषों द्वारा बोली जाने वाली मगही पर भोजपुरी का और स्त्रियों द्वारा बोली जाने वाली भोजपुरी पर मगही का प्रभाव देखा जा सकता है। कुछ पुराने लोगों का मानना है कि यहां …

सोन नदी के कछार पर बसा मेरा गांव खंडोल Read More »

कथा बरास्ते विकास शहरीकरण की भेंट चढ़ते गांव की

अपने गांव को याद करने से पहले तो बनता है अपने आप से एक सवाल। क्या दशकों से किसी महानगर में रहते-रहते हमारा गांव हमारे अंदर कहीं बसता भी है या वह कहीं गुम हो चुका है ? तो जवाब तो यही बनता है कि मन के किसी कोने में वह बसता तो है लेकिन …

कथा बरास्ते विकास शहरीकरण की भेंट चढ़ते गांव की Read More »

स्मृतियों में बसा है गांव रसलपुर

विभाष कुमार मिश्र मैथलिशरण गुप्त ने साकेत में , सीता के मन में उनके वास्तविक घर कौन है इस संदर्भ में एक मार्मिक प्रसंग लिखा है । जिसमें वे सीता के मन के द्वंद्व को इस प्रकार लिखते है “ मिथिला मेरा मूल है, आयोध्य मेरा फूल। चित्रकूट को क्या कहूं रहती हूं मैं भूल। …

स्मृतियों में बसा है गांव रसलपुर Read More »

गांव सलेमपुर आज भी अपनी पुरातन परंपराओं को सहेजे हुए है…

प्रो बी एस वर्मा देश बदला, समाज बदला, संस्कार बदले, संस्कृतियां तक बदल गयीं। परंतु भारतीय ग्रामीण परंपराओं ने अपना परिवेश नहीं बदला। हमारा गांव सलेमपुर नहीं बदला। कई संस्कृतियां आईं और गयी, परंतु असली भारत वर्ष आज भी ग्रामीण परिवेश में देखने को मिल जायेगा। ऐसा ही एक गांव है सलेमपुर। जो उत्तर प्रदेश …

गांव सलेमपुर आज भी अपनी पुरातन परंपराओं को सहेजे हुए है… Read More »

मध्यप्रदेश: खाटला और तड़वी बैठक से मिली आदिवासी और जनजातीय जिलों में टीकाकरण को गति

विक्रम मजूमदार भोपाल: मध्यप्रदेश की एक बड़ी आबादी में आदिवासी और जनजातीय समाज की बहुलता है। जिनकी आजीविका जंगलों और जड़ी बूटियों पर आश्रित है। परंपरागत लोकाचार से जुड़े समुदाय के लोगों को वैक्सीन के लिए प्रोत्साहित करना खासा चुनौतीपूर्ण रहा। लेकिन इन ईलाकों में जिला प्रशासन, राज्य और जिला स्तरीय स्वास्थ्य टीम ​के सा​थ …

मध्यप्रदेश: खाटला और तड़वी बैठक से मिली आदिवासी और जनजातीय जिलों में टीकाकरण को गति Read More »

दुनिया देखा… पर हर पल सीने में धड़कता रहा है गांव सरोत्तर…

राकेश पांडे, सीएमडी ब्रावो फार्मा व ब्रावो फाउंडेशन नैनों में था रास्ता… हृदय में बसा है गांव साकार होगा जरूर गांव सरोत्तर के तरक्की का सपना..भले छलनी हो जाए पांव!  तो आईए आपको अपने गांव सरोत्तर की ओर लिए चलता हूं।  मोतिहारी का सरोत्तर गांव। आप कह सकते हैं कि हमारा गांव सरोत्तर बाबू साहब …

दुनिया देखा… पर हर पल सीने में धड़कता रहा है गांव सरोत्तर… Read More »

बंगलुरु का मल्लेश्वरम गवर्नमेंट बॉयज़ हाई स्कूल…हाईटैक लैब,हुनरमंद बच्चे..लक्ष्य 75 सैटेलाइट लांंचिंग

मनोरमा सिंह बंगलुरु: सरकारी स्कूलों के बारे में कई रूढ़ मान्यताएं हैं बात चाहे शिक्षा के स्तर की हो या सुविधाओं की, लेकिन बंगलुरु का मल्लेश्वरम गवर्नमेंट बॉयज़ हाई स्कूल इन सब धारणाओं को पिछले कई साल से खारिज कर रहा है, बात चाहे शिक्षा के स्तर की हो या कमजोर पृष्ठभूमि से आने वाले …

बंगलुरु का मल्लेश्वरम गवर्नमेंट बॉयज़ हाई स्कूल…हाईटैक लैब,हुनरमंद बच्चे..लक्ष्य 75 सैटेलाइट लांंचिंग Read More »

विस्थापन का दर्द दिल में लिए…गांव से जुड़ा ही रहा मेरा रिश्ता

अंजनी कुमार फिल्म /टी.वी निर्देशक मेरा जन्म मुंगेर जिले के सहूर गांव में हुआ। ये गांव पंडित कार्यानद शर्मा के गांव के रूप में जाना जाता है। यहीं उनका जन्म हुआ था। मेरी मां श्रीमती ज्योतसना शर्मा और पिता श्री धनंजय सिंह दोनो ही शिक्षक थे। बचपना के बाद मां के तबादले के हिसाब से …

विस्थापन का दर्द दिल में लिए…गांव से जुड़ा ही रहा मेरा रिश्ता Read More »

स्मृतियों के राज प्रसाद में अठखेलियां करता मेरा गांव बेनीपट्टी

आलोक कुमार, आईपीएस स्मृतियों के राज प्रसाद में सबसे खास जगह उस मिट्टी की होती है जिसकी गोद में खेल कर हम पले-बढ़े होते हैं। मेरा गांव बेनीपट्टी की मिट्टी की सोंधी खुशबू, उस देश में पूरब के ललचाउ आसमान में उगले सूरज देवता, नीरव आसमान पर तिरते बादलों से लुकाछिपी करता चांद, और मादक …

स्मृतियों के राज प्रसाद में अठखेलियां करता मेरा गांव बेनीपट्टी Read More »