Pm NARENDRA MODI

अपने टोले ही चलेंगे…जैसे लाखों लोग गए…जो होगा…देखा जाएगा

बाबा चले गए, मेरे लिए गांव का मतलब ही बदल गया. बैराग मेरे अंदर भी जागने लगा. मैं भी बाबा की तरह रक्त होकर भी विरक्त होने लगा. तब ये समझ नहीं आता था- ये कैसा अमोह है, जो मेरे अंदर उठ रहा है. क्यों गांव अब सूना लगने लगा है. इसका दायरा सीमित लगने …

अपने टोले ही चलेंगे…जैसे लाखों लोग गए…जो होगा…देखा जाएगा Read More »

बाबा ने ठाना… मंदिर बनाकर ही मरूंगा

कुमार विनोद, वरिष्ठ टीवी पत्रकारअब नई दिक्कत शुरु होती है- बघड़ियों के टीले पर. बाबा ने अपने पांच बेटों के साथ टोला तो बसा लिया, लेकिन खाने पीने की दिक्कत तमाम थी. ये फतेहपुर बाजार तो अब हुआ है न, जहां सबकुछ मिल जाता था. पहले नून-तेल-मसाला और सरकारी राशन लेने के लिए भी पुराने …

बाबा ने ठाना… मंदिर बनाकर ही मरूंगा Read More »

…खाक में क्या सूरतें होंगी

बघड़ियों का टीला… वो ख़ाक की तरह ही दिखता है अब यादों के झरोखे से. मिर्जा गालिब के मशहूर शेर में इस बयान की तरह. ये खाकसार भी उसी खाक से, उसी मिट्टी से बना है, जिसमें दबी गड़ी जाने कितनी ही सूरतें बरसों की खाक कुरेद जाती हैं- सूरतें कुछ देखी हुईं और कुछ …

…खाक में क्या सूरतें होंगी Read More »

ग्राम आर्थिक दृष्टि से समृद्ध हुए… लेकिन टूटी है सामाजिक एकजुटता

प्यारे मोहन त्रिपाठीमेरा गांव उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के मनियाहू तहसील में हरद्वारी है। ये तीन तरफ से नदियों से घिरा हुआ है। मेरी उम्र अभी लगभग 84 साल है लेकिन गांव में सड़क नहीं है। जब पीछे मुड़ कर देखता हूं तो गांव खेती किसानी दृष्टि से खुशहाल था। खेती-बाड़ी ही मुख्य पेशा …

ग्राम आर्थिक दृष्टि से समृद्ध हुए… लेकिन टूटी है सामाजिक एकजुटता Read More »

बाढ़ और अगलगी की विपदा को अब भी नहीं भूल पाते हरिवंश

पंचायत खबर टोलीआज प्रभात खबर के पूर्व संपादक हरिवंश दूसरी बार राज्यसभा के उपसभापति चुने गये.इस मौके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में उनका जीवन परिचय देते हुए दो प्रसंगों की चर्चा की; एक- जूते की, दूसरा उनके गांव की. दोनों बड़े रोचक व प्रेरक प्रसंग हैं. ये प्रसंग डॉ आर‌ के नीरद की …

बाढ़ और अगलगी की विपदा को अब भी नहीं भूल पाते हरिवंश Read More »

ददिहाल के गांव बड़ौत से ज्यादा…ननिहाल के गांव पुरकाजी से रहा है नाता

निशि सिंह हम सभी की जड़ें गांव से जुड़ी हैं। व्यक्ति उम्र के किसी भी पड़ाव पर पहुंच जाये, सफलता की कितनी भी सीढ़ियां चढ़ लें लेकिन जब यादों का पिटारा खोलता है,  तमाम खिड़की, दरवाजों,झिर्रियों के पार बचपन के वो अनमोल क्षण कुछ चुहल,कुछ बदमाशियां, कुछ सखी-कुछ सहेलियां सामने आ खड़े होते हैं। स्वाभाविक …

ददिहाल के गांव बड़ौत से ज्यादा…ननिहाल के गांव पुरकाजी से रहा है नाता Read More »

जीवन में अपनायें योग, काया रहेगा निरोग

ठाकुर उमेशानंद योगी   योग है जीवन की धारा , जिसने जाना, उसने माना  सब का जीवन  इसने तारा , रोगों से हों मुक्त मानव जीवन हमारा योग एक ऐसी पद्धति या चिकित्सा पद्धति है जो व्यक्ति के शरीर, मन और आत्मा को एकीकृत करता है। मन को शांत करता है। व्यक्ति को शारीरिक और आध्यात्मिक रूप …

जीवन में अपनायें योग, काया रहेगा निरोग Read More »

बदल गया है सामुदायिक जीवन

डॉ अनामिका मेरा जन्म चीन से युद्ध के समय हुआ था। उस समय की घटनाएं याद नहीं हैं। एक-दो दृश्य याद हैं। भैया हमको कहते थे कि चाइनीज है। मेरी नाक चपटी थी, इसलिए चिढ़ाते थे। हमको याद है कि नेपाल के बॉर्डर से आती थी एक बूढ़ी औरत, स्मगलिंग की साड़ियां लेकर। कुछ दूसरे …

बदल गया है सामुदायिक जीवन Read More »

राफेल: गौरवान्वित हुआ विंग कमांडर मनीष सिंह का गांव,आसमान की ओर तकते रहे परिजन

आलोक रंजन बलिया: बागी बलिया आज बल्लियों उछल रहा है। अपने लाल के करतब पर गौरवान्वित हो रहा है। मंगल पांडे का बलिया, चित्तु पांडे का बलिया, पूर्व प्रधानमंत्री और समाजवादी नेता चंद्रशेखर का बलिया, जनेश्वर मिश्र का बलिया। हजारी प्रसाद द्विवेदी का बलिया, केदार नाथ सिंह का बलिया। जी हां खुश हो भी क्यों …

राफेल: गौरवान्वित हुआ विंग कमांडर मनीष सिंह का गांव,आसमान की ओर तकते रहे परिजन Read More »

समझ रहा है कॉरपोरेट इंडिया…भविष्य गांव का ही है

संकल्प सिन्हा तुलसी दास ने लिखा है धीरज धर्म मित्र अरु नारी। आपद काल परिखिअहिं चारी॥ अर्थात धैर्य, धर्म, मित्र और स्त्री- इन चारों की विपत्ति के समय ही परीक्षा होती है। लेकिन इस कोरोना रूपी महामारी के इस दौर में जब पूरा देश लॉक डाउन में था तो इन चारों की तो परीक्षा हो …

समझ रहा है कॉरपोरेट इंडिया…भविष्य गांव का ही है Read More »