employment

समझ रहा है कॉरपोरेट इंडिया…भविष्य गांव का ही है

संकल्प सिन्हा तुलसी दास ने लिखा है धीरज धर्म मित्र अरु नारी। आपद काल परिखिअहिं चारी॥ अर्थात धैर्य, धर्म, मित्र और स्त्री- इन चारों की विपत्ति के समय ही परीक्षा होती है। लेकिन इस कोरोना रूपी महामारी के इस दौर में जब पूरा देश लॉक डाउन में था तो इन चारों की तो परीक्षा हो …

समझ रहा है कॉरपोरेट इंडिया…भविष्य गांव का ही है Read More »

गांधी की राह पर फिर से चलना होगा

अशोक भगत सचिव, विकास भारती कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के बीच अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के उपाय की तलाश ने नीति-निर्माताओं के माथे पर चिंता की गहरी लकीरें खींच दी है. उत्पाद, उत्पादन और बाजार के विकास की संभावनाओं के बीच शहरों से गांव की ओर बढ़ रहे बेरोजगार मजदूरों की भीड़ को काम …

गांधी की राह पर फिर से चलना होगा Read More »

प्रवासी मज़दूरों की वापसी-नये अवसरों की दस्तक

अनिन्दो बनर्जी निदेशक, कार्यक्रम प्रभाग, प्रैक्सिस देश में लाॅकडाउन लागू किये जाने के बाद से बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों में काम करने वाले प्रवासी मज़दूरों की अपने गांव वापसी हो रही है। ऐसा माना जा रहा है कि यदि निकट भविष्य में महामारी से निपटने में ठोस कामयाबी नहीं मिली तो अर्थव्यवस्था के बहुत …

प्रवासी मज़दूरों की वापसी-नये अवसरों की दस्तक Read More »