budget

पंचायतें तभी होंगी मजबूत…जब ग्रामसभा न हो मजबूर

के एन गोविंदाचार्य भारतीय सभ्यता का संचालन बिंदू है गांव। पिछले 200 वर्षों के प्रत्यक्ष और बाद में प्रच्छन्न उपनिवेशवादी मानसिकता का गांव पर हमला हुआ है। गांधी जी ने कहा था कि अंग्रेजीयत जाए, अंग्रेज भले ही रह जाए। अंग्रेज जाए, अंग्रेजीयत चालू रहे, यह उन्हें कबूल नहीं था। इसलिए संविधान सभा की बहसों …

पंचायतें तभी होंगी मजबूत…जब ग्रामसभा न हो मजबूर Read More »

बजट से किसानों को उम्मीद..किसानों को सस्ते कर्ज की सौगात संभव

अरविंद सिंह नयी दिल्ली: पिछले साल गांव—किसानों का बजट पेश कर  वाहवाही लूटने वाली सरकार का इस बार भी जोर कृषि क्षेत्र पर रहने की उम्मीद है। नोटबंदी के बाद सर्वाधिक प्रभावित छोटे किसानों को राहत देने के लिए सरकार कृषि बजट 25 फीसदी तक बढ़ सकती है। उन्हें सस्ते कृषि लोन की सौगात दे …

बजट से किसानों को उम्मीद..किसानों को सस्ते कर्ज की सौगात संभव Read More »