खेती किसानी

कृषि पत्रकार बृहस्पति पाण्डेय को मिला आई सी ए आर का राष्ट्रीय पुरस्कार

आलोक रंजन लखनऊ: देश में खेती किसानी पर लिखने पढ़ने वाले पत्रकारों में अपनी खास पहचान रखने वाले बृहस्पति कुमार पाण्डेय को 2019 का “चौधरी चरण सिंह पुरस्‍कार” प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार उन्हें भारत सरकार के भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा प्रिंट मीडिया हिंदी की श्रेणी में दिए जाने वाले कृषि अनुसंधान और …

कृषि पत्रकार बृहस्पति पाण्डेय को मिला आई सी ए आर का राष्ट्रीय पुरस्कार Read More »

कोक नहीं काढ़ा की बढ़ी मांग, कोरोना में चाय की चुस्की भूल गर्म पानी का हो रहा है सेवन

अभिषेक राज कलौंजी पीस और आंवला रस पीकर भी कोरोना को ठेंगा न दिखा पाये बच्चन ठंढ़ा मतलब कोकोकाला और गरम-गरम चाय की चुस्की भूल लोग काढ़े का स्वाद ले आम लोग बढ़ा रहे हैं इम्युनिटी नई दिल्ली: महानायक अमिताभ बच्चन का वह कोरोना गीत जिसमें वो कहते हैं “बहुत इलाज बताते हैं जन-जनमानस सब, …

कोक नहीं काढ़ा की बढ़ी मांग, कोरोना में चाय की चुस्की भूल गर्म पानी का हो रहा है सेवन Read More »

कारोना के आफत बीच धान तो जैसे तैसे निपटा,गेहूं खरीदगी की बाट जोहता किसान

अमरनाथ झा पटना:कोरोना काल की देशबंदी और मौसम की बेरूखी की वजह से धान की सरकारी खरीद तो जैसे-तैसे संपन्न हुई, पर जब गेहूं की सरकारी खरीद का मामला आया तब समस्या की गंभीरता उजागर हुई। मक्का की हालत तो कहीं अधिक खराब है, सरकारी खरीद हो नहीं रही और बाजार में न्यूनतम समर्थन मूल्य …

कारोना के आफत बीच धान तो जैसे तैसे निपटा,गेहूं खरीदगी की बाट जोहता किसान Read More »

टिड्डी दल से बचाव को खेत की ओर दौड़े किसान,शाषण भी हाई अलर्ट पर

अमरनाथ झा पटना: बिहार पहुंचा टिड्डियों का दल अलग-अलग झुंड में बंटकर कई क्षेत्रों में फसल बर्बाद करने में लग गया है। राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश होते हुए टिड्डी-दल बीते शुक्रवार को बिहार के इलाके में पहुंच गया। हालांकि इनका समूह छोटा है। यह दल सीमावर्ती जिलों से बिहार में आया। रोहतास, भोजपुर, सीवान, गोपालगंज, …

टिड्डी दल से बचाव को खेत की ओर दौड़े किसान,शाषण भी हाई अलर्ट पर Read More »

कृष्यै त्वा क्षेमाय त्वा रम्यै त्वा पोषाय त्वा

कमलेश कुमार सिंह पटना: मौजूदा दौर में गांव और किसानों के हालात। इसके लिए दो बातें। पहली बात आदी काल की। उसके बाद, बात वर्तमान परिदृश्य की। पहले बात, पुरानी। आदी काल में भारत में यह मान्यता रही है कि गांव एक स्वावलंबी और आत्मनिर्भर इकाई के रूप में विकसित हों। प्रारंभ से ही भारतीय …

कृष्यै त्वा क्षेमाय त्वा रम्यै त्वा पोषाय त्वा Read More »

कंक्रीट का जंगल उगाना तो ठीक पर्यावरण को दरकिनार कर नहीं बचेगा जीवन

डॉ रणविजय निषाद कालान्तर में भौतिक समृद्धि के साथ सम्पूर्ण विश्व उत्तरोत्तर प्रगतिपथ पर अग्रसर है, तो दूसरी तरफ हमारी उदात्त सभ्यता और संस्कृति से विमुखता, भोगवादी जीवनशैली के कारण जल-थल और वायुमण्डल पूर्णतयः संदूषित हो चुका है। वृक्षों की अंधाधुंध कटाई, जल का अतिशय दोहन, प्राकृतिक संसाधनों का अविवेकपूर्ण प्रबंधन तथा ईंट-भट्टों की अत्यधिक …

कंक्रीट का जंगल उगाना तो ठीक पर्यावरण को दरकिनार कर नहीं बचेगा जीवन Read More »

अन्नदाताओं के लिए आफत बनी कोरोना के बीच राहत देती एमएसपी में बढ़ोतरी की खबर

मंगरूआ नयी दिल्ली: कोरोना काल में किसानों की परेशानियों से जुड़ी खबरें तो आपने भी देखी,सुनी, पढ़ी होगी। कभी किसान की फसल खेत में रह जाने की खबर, कभी कोरोना की वजह से मजदूर न मिलने की परेशानी, आगलगी के कारण फसल बर्बादी, कभी टमाटर, प्याज और सब्जियों के कौड़ी के दाम बिकने की खबर। …

अन्नदाताओं के लिए आफत बनी कोरोना के बीच राहत देती एमएसपी में बढ़ोतरी की खबर Read More »

मक्का के समर्थन मूल्य में 53 फीसदी, तूअर और मूंग में 58 फीसदी की बढ़ोतरी

संतोष कुमार सिंह नयी दिल्ली:—खुला लॉकडाउन और कोरोना दोनो साथ—साथ चलेंगे यह तय है। लेकिन नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की पहली बैठक में यह भी साफ हो गया ​कि हम कोरोना को भी हरायेंगे और देश को आगे भी बढ़ायेंगे। यही कारण है कि शिथिल पड़ी अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए …

मक्का के समर्थन मूल्य में 53 फीसदी, तूअर और मूंग में 58 फीसदी की बढ़ोतरी Read More »

सजनी ने मंगाई मुजफ्फरपुर की शाही लीची..सजन न सही डाक बाबू हुए हाजिर

मंगरूआ पटना: मोहे छोड़ परदेश मत जईह बलमा…मुजफ्फरपुर के लीचिआ खिअईह बलमा। लेकिन परदेशी बलमा तो अभी खुद ही कोरोना काल में परदेश से गांव लौटने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं। लेकिन जो लोग परदेश में फंसे हुए है और कोरोना में लॉक डाउन का पालन कर रहे हैं, उनकी भी तो इच्छा होगी और सजनी …

सजनी ने मंगाई मुजफ्फरपुर की शाही लीची..सजन न सही डाक बाबू हुए हाजिर Read More »

मंडी में टमाटर,प्याज के दाम में भारी गिरावट, आम उपभोक्ताओं को ज्यादा फायदा नहीं

पंचायत खबर टोली नयी दिल्ली: आत्मनिर्भर भारत की चाहत रखने वाले अब तक इस सवाल से मुंह से मोड़ते आये हैं कि चाहे कोई भी संकट हो इस देश में सबसे ज्यादा परेशान होता है तो वो है अन्नदाता। उन अन्नदाताओं में भी सबसे ज्यादा किसी पर मार पड़ती है वो है सब्जी उत्पादक किसान। …

मंडी में टमाटर,प्याज के दाम में भारी गिरावट, आम उपभोक्ताओं को ज्यादा फायदा नहीं Read More »