बना हुआ है कोरोना के तीसरी लहर का आसार, कैसे पंचायत चुनाव करायेगी बिहार सरकार

संतोष कुमार सिंह
पटना: एक तरफ जहां बिहार में कोरोना के तीसरी लहर के पहले अधिक से अधिक लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की तैयारी चल रही है, वहीं दूसरी तरफ चल रही है पंचायत चुनाव की तैयारी। कोरोना के मद्देनजर पंचायत चुनाव कराना कम जोखिम का काम नहीं है। दूसरी लहर के दौरान जिस तरह उत्तर प्रदेश में हुए पंचायत चुनाव में मतदान ​कर्मियों के कोरोना संक्रमित होने के बहुत से मामले सामने आये ऐसे में बिना टीकाकरण का लक्ष्य पूरा हुए चुनाव कराना जोखिम भरा काम है। यही कारण है कि सरकार पंचायत चुनाव को लेकर उहापोह की स्थिती में है। संभावित तिथी को लेकर कयास लगाया जा रहा है लेकिन पुख्ता तौर पर विभागिय स्तर पर यह नहीं बताया गया है कि बिहार में पंचायत चुनाव कब होगा।                                                              ……कोरोना के तीसरी लहर
लड़ना चाहते हैं चुनाव तो लगवाना होगा टीका
पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने निर्वाचन आयोग से आग्रह किया है जो लोग पंचायत चुनाव लड़ना चाहते हैं, उनके लिए पहले कोरोना का टीका लेना अनिवार्य किया जाए। अगर वह टीका नहीं लेते हैं तो उनकी उम्मीदवारी को रद्द कर दिया जाए। सम्राट चौधरी ने इस दौरान जनप्रतिधियों से भी अपील की है कि वो जल्द-से-जल्द स्वयं तो टीका लें ही, साथ ही अपने परिवार के सदस्यों को भी टीका अवश्य लगवाएं। इससे राज्य में कोरोना का टीका लगाने को लेकर एक अच्छा संदेश भी जाएगा।
इस बीच चुनाव की तिथियों को लेकर भी कयास लगाया जा रहा है। चुनाव पूरी तरह से ईवीएम से होंगे या बैलेट पेपर से इसको लेकर भी असमंजस की​ स्थिती है। ईवीएम की अनुपलब्धता की स्थिती में बैलेट पेपर से भी चुनाव कराये जाने की तैयारी है। पहले 30 राज्यों से ईवीएम मंगाने का निर्णय लिया गया। फिर मतदान के अगले दिन रिजल्ट जारी करने की बात सामने आई। अब निर्वाचन आयोग ने एक और निर्णय लिया है। वह है ईवीएम के साथ साथ बैलेट पेपर से भी वोटिंग कराने का। जबकि पहले आयोग ने कहा था कि इस बार बैलेट पेपर का प्रयोग नहीं किया जाएगा।                                                                                                ……कोरोना के तीसरी लहर

बिहार में पंचायत के कुल 6 पद हैं। इनमें से 4 पदों पर का चुनाव ईवीएम से और 2 पदों का चुनाव बैलेट पेपर से कराया जाएगा। पर्याप्त संख्या में ईवीएम उपलब्धता नहीं हो पाने के कारण राज्य निर्वाचन आयोग ने यह निर्णय लिया है। आयोग ने यह निर्णय लिया है कि जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्य, ग्राम पंचायत मुखिया और ग्राम पंचायत सदस्य का चुनाव ईवीएम से कराए जाएंगे। इसके अलावा सरपंच और पंच के चुनाव बैलेट पेपर से होंगे। जिलों को दोनों ही तरीके से चुनाव की तैयारी करने के निर्देश दे दिए गए हैं।
आयोग का कहना है कि पर्याप्त संख्या में ईवीएम नहीं मिलने से मतदान को कम समय में संपन्न कराने के लिए मतपेटी का उपयोग किया जाएगा। त्रिस्तरीय पंचायती राज के चार पदों (मुखिया, पंच, पंचायत समिति और जिला परिषद सदस्य) का चुनाव ही चरणवार तरीके से ईवीएम के माध्यम से कराया जाएगा।

सरपंच और पंच पंचायती राज के मूल पद नहीं

दरअसल, बिहार में ग्राम कचहरी के सरपंच और पंच त्रिस्तरीय पंचायती राज के मूल पद नहीं हैं। ऐसे में इन दोनों पदों पर चुनाव मतपत्र के माध्यम से ही कराया जाएगा। वहीं, मुखिया के आठ हजार पद, वार्ड सदस्य के एक लाख 10 हजार पद, पंचायत समिति के 11,497 पद और जिला परिषद के 1,161 पदों पर मतदान के लिए ईवीएम का उपयोग किया जाएगा।                       ….. कोरोना के तीसरी लहर

इस कारण बैलेट का लेना पड़ रहा है सहारा

ईवीएम के साथ बैलेट पेपर के इस्तेमाल को लेकर बिहार निर्वाचन आयोग का कहना है कि पंचायत चुनाव के लिए राज्य निर्वाचन आयोग को कम से कम चार लाख ईवीएम की आवश्यकता है। अभी तक राज्य निर्वाचन आयोग को करीब ढाई लाख ईवीएम ही उपलब्ध हो पाई है। देश के अलग-अलग राज्यों से ईवीएम को बिहार लाया जाना है। तमिलनाडु में करीब 1 लाख 44 हजार एम टू मॉडल की ईवीएम उपलब्ध है, लेकिन अभी तक तमिलनाडु ने बिहार को ईवीएम उपलब्ध कराने को लेकर क्लीयरेंस नहीं दी है। इसके कारण ईवीएम की कमी हो रही है।                                                                                                                          ……कोरोना के तीसरी लहर

बदल भी सकता है फैसला

बैलेट पेपर से चुनाव कराने का फैसला विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है। आयोग के सचिव योगेंद्र राम ने कहा कि सभी पदों के लिए ईवीएम से चुनाव ईवीएम की उपलब्धता पर निर्भर करता है। अगर पर्याप्त संख्या में ईवीएम उपलब्ध हो जाती है तो सभी पदों के लिए ईवीएम से चुनाव करा लिया जाएगा।

जुलाई के मध्य में हो सकता है तारीखों का ऐलान

पंचायत का चुनाव की घोषणा जुलाई में हो सकती है। आयोग नेे 10 चरणों में चुनाव का निर्णय लिया है। बड़े जिलों और छोटे जिलों के लिए उसी हिसाब से चरण तय किए जाएंगे। सरकार को इस बाबत प्रस्ताव भेजा जाएगा और अगले महीने के मध्य तक चुनाव की घोषणा हो सकती है। अगस्त में मतदान की प्रक्रिया शुरू होने की संभावना है। अक्टूबर तक चुनाव करा लेने का लक्ष्य रखा गया है।…कोरोना के तीसरी लहर

ये है पंचायत चुनाव की संभावित तारीख

पहला चरण

3 अगस्त को सूचना जारी

27 अगस्त को मतदान

29 व 30 अगस्त को मतगणना

दूसरा चरण

6 अगस्त को सूचना जारी

31 अगस्त को मतदान

2 व 3 सितंबर को मतगणना

तीसरा चरण

16 अगस्त को सूचना जारी

10 सितंबर को मतदान

12 व 13 सितंबर को मतगणना

चौथा चरण

20 अगस्त को सूचना जारी

14 सितंबर को मतदान

16 व 17 सितंबर को मतगणना

पांचवा चरण

1 सितंबर को सूचना जारी

24 सितंबर को मतदान

26 और 27 सितंबर को मतगणना

छठा चरण

6 सितंबर को सूचना जारी

30 सितंबर को मतदान

2 व 3 अक्टूबर को मतगणना

सातवां चरण

13 सितंबर को सूचना जारी

8 अक्टूबर को मतदान 10 व 11 अक्टूबर को मतगणना

आठवां चरण

24 सितंबर को सूचना जारी

18 अक्टूबर को मतदान

20 व 31 अक्टूबर को मतगणना

नौंवा चरण

29 सितंबर को सूचना जारी

22 अक्टूबर को मतदान

24 व 25 अक्टूबर को मतगणना

दसवां चरण

4 अक्टूबर को सूचना जारी

31 अक्टूबर को मतदान

2 व 3 नवंबर को मतगणना

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *