पंचायत चुनाव में प्रतिबंधित क्षेत्रों में बनाये गये मतदान केंद्र को लेकर चुनाव आयोग सख्त..हो रही है समीक्षा

अमरनाथ झा

नयी दिल्ली: पंचायत चुनाव की तैयारी के दौरान कई प्रतिबंधित क्षेत्रों में मतदान केन्द्र बना दिए गए हैं। धार्मिक स्थल व थाना परिसर के अलावा मुखिया के घर के 100 मीटर के दायरे में मतदान केन्द्र बनाने पर प्रतिबंध है। पर कई स्थानों पर ऐसा हो गया है। इसकी जानकारी मिलने पर राज्य चुनाव आयोग ने संबंधित जिलाधिकारी को जांचकर प्रतिवेदन भेजने का निर्देश दिया है।

राज्य चुनाव आयोग को प्रतिबंधित क्षेत्र में मतदान केन्द्र बनाने के लगभग चार सौ शिकायतें मिली हैं। आयोग ने इसके आधार पर उन मतदान केन्द्रों के अनुमोदन की प्रक्रिया रोक दी है। राज्य चुनाव आयोग के सचिव योगेन्द्र राम ने कहा कि जिलों से मतदान-केंन्द्रों के गठन का प्रस्ताव प्राप्त होने पर उनकी समीक्षा करके अनुमोदन किया जाता है। जिन जिलों से शिकायतें मिली हैं, उनपर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रतिबंधित स्थलों पर मतदान केन्द्र नहीं बनाए जा सकते।
इसबार मतदाता सूची में 14 लाख 35 हजार 46 नए मतदाताओं के नाम जोड़े गए हैं। सभी मतदाता ग्रामीण क्षेत्र के हैं। आयोग ने नए मतदाताओं के नाम सूची में जोड़ने की प्रक्रिया तय कर दी है और इस बारे में जिलाधिकारियों को निर्देश दे दिया गया है।
पंचायत चुनाव में इसबार छह करोड़ 44 लाख 54 हजार 749 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। राज्य चुनाव आयोग ने 22 फरवरी को नई मतदाता सूची जारी कर दी। पिछले चुनाव के मुकाबले इसबार 64 लाख 14 हजार 968 मतदाता जोड़े गए हैं। लगभग 14 लाख मतदाता इसके अलावा हैं जिनका नाम अभी जोड़ जाना है।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *