कमाठीपुरा के बासिंदो के जीवन में रंग भरती संगिनी बैंक

“क्या आप वास्तव में ऐसा सोचती हैं कि अगर मेरा पति यहां होता तो मैं यहां रह रही होती।“ ये कमाठीपुरा की पपाया के शब्द हैं, जब उससे उसके परिवार के विषय में पूछा जाता है। उसका छोटा सा कमरा, जिसमें वेंटीलेशन की कोई सुविधा नहीं हैं, कमरे में एक ओर घेर कर ​रसोई भी …

कमाठीपुरा के बासिंदो के जीवन में रंग भरती संगिनी बैंक Read More »