बिना गाय अधूरा है भारत

आरके सिन्हा जो लोग गोमांस खाने की वकालत कर रहे हैं वे भारत की मूलआत्मा को समझने के लिए तैयार नहीं निर्विवाद रूप से हमारी संस्कृति, और सभ्यता का आधार गंगा, गऊ और गायत्री रहे हैं। गाय को कामधेनु तथा सर्व देवमयी गोमाता माना गया है, क्योंकि वह हमें दूध, दही, घी, गोबर-गोमूत्र के रूप …

बिना गाय अधूरा है भारत Read More »