मैं बरिया समुद्र हूं…

राकेश सिंह मै प्रतापगढ का बरिया समुद्र गांव हूं। अमृत फल आंवला की पहचान हूं। हां मै स्वीकार करता हूं कि मुझे पराई आधुनिकता ने कुछ बदला जरूर है। फिर भी मै इतना भी नहीं बदला की मेरे अपने पहचान न सकें। मै अपनी जड़ों को अभी भी पकड़े हुए हू। जो हमसे दूर चले …

मैं बरिया समुद्र हूं… Read More »