pm meeting with AKHILESH YADAV

उदारीकरण, उद्योगीकरण के बावजूद श्रम की कीमत से वंचित ग्राम समाज

नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांवहुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव(निदा फ़ाज़ली)हमारे ग्रामीण समाज में आये महत्वपूर्ण बदलाव के लिहाज से 1990 का दशक काफी महत्वपूर्ण कहा जा सकता है। इस दौरान पंचायती राज संस्थाओं में बदलाव, मंडल आयोग, उदारीकरण, सूचना तकनीक के जरिए गांव में बड़े बदलाव आये। इसने पूरी …

उदारीकरण, उद्योगीकरण के बावजूद श्रम की कीमत से वंचित ग्राम समाज Read More »

सूखा एक्सप्रेस ना जी..ना जी..सूखा पैकेज..हां जी..हां जी

संतोष कुमार सिंह नयी दिल्ली: देश के कई राज्य सूखे से प्रभावित हैं। जनसंगठन और नागर समाज लगातार इस बात को उठा रहे हैं। लेकिन राज्य सरकारें अपने-अपने स्तर पर कभी सूखे को मानती हैं तो कभी यह कहते हुए इंकार किया जाता है कि प्रदेश में सूखे की हालत उतनी गंभीर नहीं है जितना …

सूखा एक्सप्रेस ना जी..ना जी..सूखा पैकेज..हां जी..हां जी Read More »