प्रेमचंद का गांव….”लमही” ढूंढ़े नहीं मिलते होरी.. धनिया.. घिसू और माधव

चंद्रबिंद सिंह कथा सम्राट प्रेमचंद का गांव अर्थात ‘गोदान’ में चित्रित होरी का गांव। यदि किसी व्यक्ति की हिन्दी कथा-साहित्य में थोड़ी भी रुचि होगी तो वह कम से कम प्रेमचंद के कथा साहित्य से परिचित होगा और प्रेमचंद के कथा – संसार के लगभग पात्र ग्रामीण परिवेश से आते हैं। मेरी उन पात्रों के …

प्रेमचंद का गांव….”लमही” ढूंढ़े नहीं मिलते होरी.. धनिया.. घिसू और माधव Read More »