डॉ लोहिया की प्रासंगिकता

हरिवंश- महापुरूषों की स्मृति और मूल्यांकन से ही कोई समाज ऊर्जा ग्रहण कर निखर सकता है. इस दृष्टि से ऐसे समारोहों की प्रासंगिकता है, हालांकि मौजूदा उपभोक्तावादी दौर में इन चीजों के प्रति अनास्था है. ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर राममनोहर लोहिया के शब्दों में कहें तो ‘निराशा के कर्त्तव्य’ ही इस राष्ट्रीय-समाज को नयी राह …

डॉ लोहिया की प्रासंगिकता Read More »