govt policy

कृष्यै त्वा क्षेमाय त्वा रम्यै त्वा पोषाय त्वा

कमलेश कुमार सिंह पटना: मौजूदा दौर में गांव और किसानों के हालात। इसके लिए दो बातें। पहली बात आदी काल की। उसके बाद, बात वर्तमान परिदृश्य की। पहले बात, पुरानी। आदी काल में भारत में यह मान्यता रही है कि गांव एक स्वावलंबी और आत्मनिर्भर इकाई के रूप में विकसित हों। प्रारंभ से ही भारतीय …

कृष्यै त्वा क्षेमाय त्वा रम्यै त्वा पोषाय त्वा Read More »

सरकारी मुआवजे से किसानों को राहत क्यों नहीं मिलती?

अनुमेहा यादव फसल बर्बाद होने पर किसानों को मुआवजा देने वाली सरकारी व्यवस्था में इतने पेंच हैं कि फिलहाल इससे किसानों को राहत मिलना मुमकिन नहीं है जब खेती-किसानी की बात हो तो हमारे देश में पहले आपदा आती है और इसके बाद राजनीतिक बयान आने लगते हैं. यानी राजनीति शुरू हो जाती है. इस साल …

सरकारी मुआवजे से किसानों को राहत क्यों नहीं मिलती? Read More »