हमसे.. आपसे.. सबसे पूछ रही है तरेंगनी..उसका कुसूर क्या है…

संतोष कुमार सिंह समाज प्रगती कर रहा है। बेटियों को बराबर का दर्जा मिले यह सोच है। पढ़ेगी बेटी, बढ़ेगी बेटी का नारा गूंज रहा है। बेटी के साथ सेल्फी भी लिए जा रहे हैं। लेकिन आज भी हमारा ग्राम समाज बेटिंयों से भेदभाव,उनके लालन—पालन में बेटों की तुलना में अंतर जारी रखे हुए है। …

हमसे.. आपसे.. सबसे पूछ रही है तरेंगनी..उसका कुसूर क्या है… Read More »