ganga mukti yatra

लॉक डाउन में गंगा हुई निर्मल, कृष्ण लीला का ग्वाह बनी यमुना भी हुई साफ

आलोक रंजन,युवा पत्रकार बनारस: सुन्दर सुभूमि भैया भारत के देशवा से, मोरे प्रान बसे गंगा धार रे बटोहिया. गंगा रे जमुनवा के झगमग पनिया से, सरजू झमकि लहरावे रे बटोहिया. ब्रह्मपुत्र पंचनद घहरत निशिदिन, सोनभद्र मीठे स्वर गावे रे बटोहिया. अपर अनेक नदी उमडि घुमडि नाचे, जुगन के जदुआ चलावे रे बटोहिया। इस कोरोना महामारी …

लॉक डाउन में गंगा हुई निर्मल, कृष्ण लीला का ग्वाह बनी यमुना भी हुई साफ Read More »

ओ गंगा बहती हो क्यों ?

ध्रुव गुप्त का फेस बुक पोस्ट.. साभार उत्तराखंड में गंगा की अविरलता और निर्मलता के लिए हरिद्वार का आध्यात्मिक केंद्र ‘मातृ सदन’ हमेशा से ही प्रतिबद्ध और आंदोलनरत रहा है। गंगा में अवैध खनन के विरुद्ध मातृ सदन समय-समय पर अपने सन्यासियों की तपस्या और अनशन के माध्यम से लोगों को जागरूक करता रहा है। …

ओ गंगा बहती हो क्यों ? Read More »

निर्मल,पावन, अविरल गंगा से जुड़े चंद सवाल…

खुद से सवाल करके गंगा को बचाने के रास्ते क्या गंगा ने ही देश को सोने की चिड़िया नहीं बनाया? क्या फरक्का और टिहरी में बांध बनाने से गंगा की धारा अविरल और प्राकृतिक रह गई? क्या गंगा और उसकी सहायक नदियों में शहरों की नालियों का मलमूत्र डालने के बावजूद उसकी पवित्रता कायम रह …

निर्मल,पावन, अविरल गंगा से जुड़े चंद सवाल… Read More »