हुक्मरान भले पर्दा डालें लेकिन अन्नदाताओं को पता है वो तीसरा आदमी कौन है…

नयी दिल्ली: एक आदमी रोटी बेलता है…एक आदमी रोटी खाता है… एक तीसरा आदमी भी है…जो न रोटी बेलता है, ना रोटी खाता है…वह सिर्फ़ रोटी से खेलता है…मैं पूछता हूँ…यह तीसरा आदमी कौन है? मेरे देश की संसद मौन है।। देश के अन्नदाताओं ने उस तीसरे आदमी को पहचान लिया है और उन्हें पता …

हुक्मरान भले पर्दा डालें लेकिन अन्नदाताओं को पता है वो तीसरा आदमी कौन है… Read More »