November 15, 2018

जिले में रबी की तैयारी जोरों पर, 107.2 हजार हेक्टेयर में होगी फसल बुआई

पंचायत खबर टोली

मऊ : रबी की तैयारियां जोरों पर है। रबी सीजन में किसान अच्छे तरीके से फसल की बोआई कर सकें, इसके लिए कृषि विभाग ने विशेष तैयारी की है। लक्ष्य रखा गया है रबी सीजन में 107.2 हजार हेक्टेयर में उत्पादन का। नये किस्म पर जोर है, ताकि उत्पादन बढ़े। इस दौरान रबी की मुख्य फसल गेहूं सहित जौ, चना, मटर, मसूर, रबी मक्का, राई-सरसों, तोरिया व अलसी की विभिन्न प्रजातियों की खेती की जाएगी। पिछली बार 98.8 के सापेक्ष 107.2 हजार हेक्टेयर के बढ़े प्रक्षेत्र से उत्साहित विभाग द्वारा अनेक प्रजातियों के अधिक प्रदर्शन पर भी जोर दिया जाएगा।

croppppppppहर ब्लॉक में लिये जाएंगे पांच गांव गोद
कृषि विभाग ने लक्ष्य रखा है कि जिले के सभी ब्लाक में पांच गांव को गोद लेकर बीज उत्पादन तकनीकी से किसानों को परिचित कराया जाएगा। पूरे प्रदेश में डीबीटी योजना के तहत सर्वाधिक लक्ष्य प्राप्त करने के बाद रबी में भी अन्नदाताओं को अधिकाधिक सुविधाएं प्राप्त कराने की प्रतिबद्धता विभाग द्वारा जताई जा रही है।
उपकृषि निदेशक डा.आशुतोष मिश्र बताते हैं कि रबी वर्ष 2016-16 के अंतर्गत विभाग द्वारा आच्छादित प्रक्षेत्र में कुल नौ प्रजातियों के उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। इसमें गेंहू 31.44 हजार हेक्टेयर, जौ 27.57, चना 13.18, मटर 13.76, मसूर 17.81 हजार हेक्टेयर में बुआई का लक्ष्य रखा गया है। गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी रबी मक्का व अलसी उत्पादन को आच्छादित क्षेत्र से बाहर रखा गया है। इसके साथ ही राई-सरसों 14.87 तथा तोरिया का उत्पादन 10.08 हजार हेक्टेयर में कराने का लक्ष्य विभाग द्वार निर्धारित किया गया है। गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष 8.4 हजार हेक्टयर अधिक प्रक्षेत्र का आच्छादन किया गया है। ऐसी ध्यान में रखते हुए विभाग द्वारा अधिकाधिक प्रदर्शन पर भी जोर दिया जा रहा है।

mustard_new

45 गांव में बीज उत्पादन तकनीकी
डा.मिश्र बताते हैं कि जिले के सभी नौ ब्लाक में पांच-पांच गांव को गोद लिया गया है। इसके तहत इन गांवाें में बीज उत्पादन तकनीकी से किसानों का परिचित कराया जाएगा। विभाग के साथ वैज्ञानिकों द्वारा किसानों को बीज शोधन, बुआई के विभिन्न विधियाें से लेकर फसल सुरक्षा तक की जानकारी दी जाएगी। इन गांवों में बीज उत्पादन से विक्रय तक की सुविधा प्रदान की जाएगी।

About The Author

एक दशक से भी ज्यादा से पत्रकारिता में सकिय। संसद से लेकर दूर दराज के गांवो तक के पत्रकारिता का अनुभव। ग्रामीण समाज व जनसरोकार से जुड़े विषयों पर पत्र पत्रिकाओं में लेखन। अब पंचायत खबर के जरिये आपके बीच।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *