August 18, 2018

किसानों का नहीं अडानी-अंबानी का फ़ायदा सोच रही है मोदी सरकार: खेतान

आप का आरोप किसानों से किए चुनावी वादे से मुकरी मोदी सरकार, कृषि मंत्री राधामोहन सिंह का बयान, ‘किसानों को लागत का 50 फ़ीसदी लाभ नहीं दे सकती केंद्र सरकार’

संतोष कुमार सिंह

नयी दिल्ली: एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कृषि मंत्री राधामोहन सिंह हरेक मंच पर किसानों की खुशहाली और उनके आमदनी में बढ़ोतरी के लिए पूर्व की सरकारों की तरह नाराबाजी न करते हुए जमीन पर काम करने की बात कहते हैं, वहीं पंजाब के चुनावी राजनीति में अपनी जमीन टटोल रही आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार ने अपने चुनावी वादे से मुकरते हुए देश के किसान के सामने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह के बयान का हवाला देते हुए आम आदमी पार्टी ने कहा है कि बयान दिया है कि मोदी सरकार देश के किसानों को उनकी लागत का 50 फ़ीसदी लाभ नहीं दे सकती। मोदी सरकार के कृषि मंत्री का यह बयान देश के किसान के लिए संदेश है कि अब वो मोदी सरकार से कोई उम्मीद ना रखे। मोदी सरकार को किसानों की चिंता ना होकर अडानी-अंबानी के मुनाफ़े की चिंता ज्यादा है और इसीलिए वो देश के किसान का साथ नहीं दे सकती।

barseemआम आदमी पार्टी के नेता आशीष खेतान ने कहा कि ‘मोदी सरकार में कृषि मंत्री ने अब यह साफ़ कर दिया है कि वो देश के किसान के बारे में नहीं सोचती बल्कि उसे अडानी और अंबानी को होने वाले मुनाफ़े की ज़्यादा चिंता है। उनका कहना है कि कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने ऐलानिया बयान दिया है कि मोदी सरकार अब किसानों से किए चुनावी वादे के मुताबिक उनकी लागत का 50 फ़ीसदी लाभ देने में असमर्थ है क्योंकि ऐसा करने से ओपन मार्केट में बड़ी दिक्कत पैदा हो जाएगी। मोदी के मंत्री के इस बयान का मतलब है कि देश का किसान अब मोदी सरकार से कोई उम्मीद ना रखे क्योंकि मोदी सरकार को ओपन मार्केट यानि अडानी-अंबानी की कंपनियों को होने वाले मुनाफ़े की ज्यादा चिंता है। देश का किसान अगर कर्ज़ के बोझ से आत्महत्या कर रहा है तो उससे सरकार को कोई फ़र्क नहीं पड़ता क्योंकि इस सरकार को देश के किसान की चिंता नहीं है बल्कि उन्हे चिंता इस बात की है कि कहीं ओपन मार्केट में अडानी-अंबानी को कोई नुकसान ना हो जाए।

plantap

आशीष खेतान ने याद दिलाया कि “भारतीय जनता पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में यह कहा था कि ‘वो किसानों की स्थिति सुधारने की दिशा में काम करेंगे और किसानों को उनकी लागत का 50 फ़ीसदी मुनाफ़ा सुनिश्चित करवाया जाएगा । अब अपने चुनावी वादे से मुकरते हुए सरकार ने कह दिया है कि देश का किसान मोदी सरकार से कोई उम्मीद ना रखे। आपको बता दें कि इस वक्त देश का किसान कर्ज़ ना चुकाने और उसकी फ़सल का सही मूल्य ना मिलने से परेशान है और काफ़ी बड़ी संख्या में आत्महत्या कर रहा है। ऐसी विकट स्थिति में केंद्र सरकार ने देश के किसानों को भूखो मरने के लिए छोड़ दिया है। आशीष ने कहा कि,आम आदमी पार्टी पंजाब के किसानों को मोदी सरकार के इस सच के बारे में बताएगी और पंजाब के किसान को समझाएगी कि अगर अब भी कोई किसान अकाली-भाजपा को वोट देता है तो उसका वोट ख़राब ही जाएगा। पंजाब के साथ-साथ आम आदमी पार्टी पूरे देश में किसानों के अधिकारों को लेकर बड़े पैमाने पर एक अभियान चलाएगी और किसानों की लड़ाई सड़क से लेकर संसद तक लड़ेगी और देश की मोदी सरकार पर लगातार यह दबाव बनाएगी कि या तो वो किसानों को किए अपने चुनावी वादे को पूरा करे और अगर नहीं कर सकती तो प्रधानमंत्री हाथ जोड़कर देश के किसान से माफ़ी मांगें और देश की जनता को बताएं कि भारतीय जनता पार्टी ने किसानों से झूठा वादा किया था जिसे वो पूरा नहीं सकते।

About The Author

एक दशक से भी ज्यादा से पत्रकारिता में सकिय। संसद से लेकर दूर दराज के गांवो तक के पत्रकारिता का अनुभव। ग्रामीण समाज व जनसरोकार से जुड़े विषयों पर पत्र पत्रिकाओं में लेखन। अब पंचायत खबर के जरिये आपके बीच।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *