July 14, 2020

मुखिया इंदु देवी ने बढ़ाया प्रदेश का मान, दो राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित होगा कपिलो पंचायत

देश में बेहतर काम करने वाली पंचायतों को प्रत्येक वर्ष पंचायती राज दिवस पर राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जाता है। कुछ पंचायतों को पंडित दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार दिए जाते हैं तो कुछ पंचायतों को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा अवार्ड। इसके साथ ही कुछ पंचायतों को बाल मैत्री अवार्ड से भी सम्मानित किया जाता है। वर्ष 2020 में अवार्ड प्राप्त करने वाले पंचायतों की सूची जारी कर दी गइ है, हालांकि कोरोना महामारी के कारण पुरस्कार समारोह अभी नहीं हो पाया है। ऐसे में पंचायत खबर ने ये तय किया है आगामी एक माह तक रोजाना एक पंचायत की कहानी आपके सामने लायेगा कि कैसे इन पंचायतों ने आत्मनिर्भरता और समावेशी विकास की दिशा में कदम बढ़ाया है..तो शुरू करते हैं झारखंड के गिरिडीह के बिरनी प्रखंड के कपिलो पंचायत से जिसे इस वर्ष भी पंडित दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार दिए जाते हैं तो कुछ पंचायतों को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा अवार्ड के लिए चयनित किया गया है।

संतोष कुमार सिंह
नयी दिल्ली: देश इस समय गंभीर संकट के दौर से गुजर रहा है। एक तरफ कोरोना महामारी का खतरा है तो दूसरी तरफ रोजगार का। इस बीच देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस चुनौती से निपटने के लिए ‘वोकल टू लोकल’ और आत्मनिर्भरता का मंत्र दिया है। लेकिन स्वाभाविक है देश के आत्मनिर्भरता का रास्ता गांव होके गुजरता है। ऐसे में शाषण की सबसे निचली इकाई यानी ग्राम पंचायत जब मजबूत होती है तो लोकतंत्र मजबूत होता है। तीसरी सरकार मजबूत होती है, गांव मजबूत होता है। वैसे भी कोरोना महामारी काल में जब लोग गांव लौटने लगे हैं तो गांव में रौनक है, भले ही सोशल डिस्टेंशिंग के कारण सरकारी कामकाज लगभग ठप हो। लेकिन गांव ने आत्मनिर्भरता की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। ऐसा ही एक पंचायत है झारखंड के गिरिडीह जिले का कपिलो पंचायत। इस पंचायत की मुखिया है इन्दु देवी।

इस पंचायत के लोगों को खुश होने का मौका एक बार फिर से आया है, वहां कोई डिस्टेंस नहीं है। हो भी क्यों … इस पंचायत को पंचायती राज मंत्रालय भारत सरकार द्वारा उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रत्येक वर्ष दिए जाने वाले राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कारों में स्थान मिला है। केवल एक राष्ट्रीय पुरस्कार की बात कौन करे बिरनी प्रखंड के कपिलो पंचायत की झोली में वर्ष 2020 में दो पुरस्कार आए हैं। यानी कपिलो को दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार दिए जाने के साथ ही नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा अवार्ड भी मिल चुका है। इस तरह से इस पंचायत ने न सिर्फ जिले में बल्कि पूरे प्रदेश में गौरवान्वित हुआ है। वैसे तो कपिलो पंचायत को पहले भी कई पुरस्कार मिल चुके हैं जिसमें मूल्यांकन वर्ष 2017-2018 के तहत पिछला वर्ष भी राष्ट्रीय पंचायत अवार्ड पंडित दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इतना ही नहीं कपिलो पंचायत के मुखिया इन्दु देवी को उत्कृष्ट कार्य के लिए जिला प्रशासन के द्वारा कई बार प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया है, और उत्कृष्ट कार्य को देखने के लिए कई बार देश विदेश से अधिकारियों का कपिलो पंचायत में क्षेत्र भ्रमण कराया गया है।


क्या कहती हैं मुखिया
जी हां, झारखंड के गिरिडीह जिले के एकमात्र कपिलो पंचायत को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा अवार्ड के साथ ही पंडित दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार के ​लिए चयन होने की खबर जैसे हीं कपिलो पंचायत के मुखिया को मिली तो कोरोना के भयावहता के बीच भी मुखिया इन्दु देवी और उनके पति मुकेश यादव के खुशी का ठिकाना न रहा। वे पूरे पंचायत के साथ अपनी खुशियां साझा करने निकल गये। हालाकि जिम्मेवार जनप्रतिनिधि होने के नाते उन्होंने पूरी तरह से सोशल डिस्टेंशिंग का पालन किया और औरों को भी इस बाबत सचेत करते दिखे। मुखिया इन्दु देवी ने बताया कि हमें पहले से हीं उम्मीद थी कि हमारे सतत मेहनत को फिर से पहचान मिलेगी और पंचायत के विकास का सफर निरंतर जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से पंचायत के लिए गौरव की बात है, और पंचायत के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है क्योंकि न लोकसभा, न विधानसभा, सबसे बड़ा ग्राम सभा के मूल मंत्र के तहत कार्य से हमारे पंचायत की पुरानी तस्वीर बदल गयी है और आज एसे में हमारे पंचायत को एक हीं वितीय वर्ष दो दो राष्ट्रीय अवार्ड मिला है।

आज मैं बहुत खुश हूँ क्योंकि जनता जनार्दन ने जिस उम्मीद से हमें चुना था उनके उम्मीदों पर खरा उतरकर उनका विश्वास जीत लिया है, अब लोग मुझे मेरे चेहरे के बदौलत नहीं, बल्कि मेरे काम के बदौलत मुझे पहचानते हैं, आज फिर से एक बार कपिलो पंचायत की जीत हुई है, ग्राम पंचायत वासियों की जीत हुई है, युवा साथियों और सभी वार्ड सदस्यों की जीत हुई है, आप सबों के अपनापन , प्यार, आशीर्वाद, स्नेह और सहयोग की जीत हुई है, SHG बहनों की जीत हुई है, आज सभी अपनों के साथ साथ शुभचिंतकों की जीत हुई है, आज फिर से एक बार कपिलो पंचायत राष्ट्रीय स्तर नंबर वन बना है, सभी के सहयोग से से पूरे राज्य में कपिलो पंचायत का डंका बजा है, जिसमें हमारे सभी स्वास्थ्य​कर्मियों, पंचायतकर्मी, पंचायत जन प्रतिनिधियों और प्रखण्ड से लेकर जिले तक सभी पदाधिकारियों का उल्लेखनीय योगदान रहा है, उन्हीं के बदौलत पंचायत को यह गौरव हासिल हुआ है।
यूं आगे बढ़ा इन्दु देवी का सफर

​कपिलो पंचायत के ग्रामीणों से जब इन्दु देवी की मुखिया के रूप में कामकाज की बाबत पूछा तो ग्रामीण दालगोविंद साव,जगदीश साव,दशरथ यादव,अर्जुन मोदी एवं देवेंद्र दास कहा कि पंचायत चुनाव जीतने के बाद एक साधारण परिवार की महिला, एक किसान की बहु, एक गरीब किसान बेटी इस कदर मेहनत करते नजर आयी कि अगल—बगल के लोग भी सराहना करते नहीं थकते। वे कहते हैं कि मुखिया इन्दु देवी पिछले चार वर्षों के कार्यकाल में घर परिवार के काम काज को संभालते हुए सामाजिक कार्यो में बहुत ही रुचि रखती हैं मानों वो हमारे परिवार की सदस्य हैं और पूरा गांव उनका परिवार है। वहीं ग्रामीण बुजुर्ग महिलायें क्रमश: रूक्मिणी देवी, भगिनिया देवी, कलावती देवी, तारा देवी कहती हैं कि किसी भी महिला के लिए गर्भधारण का पीरियड अहम होता है। इन्दु देवी खुद गर्भावस्था के अंतिम दिनों में भी ग्राम सभा की बैठक करते हुए एवं विकास कार्यों का शिलान्यास और उद्घाटन करते हुए देखी गयी है। यहां तक की पिछले वर्ष भी दिल्ली में राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त करने के लिए छः माह का अपना पुत्र साथ देखी गयी है। मुखिया पद की जिम्मेवारी संभालने के साथ ही वे अपना खेती का कार्य खुद से करती हैं। यह जुझारू महिला मुखिया लोगों से एक आम। आदमी और अपना घर परिवार के जैसा मिलजुल ग्रामीणों के हर दुःख सुख में साथ रहते हुए नजर आती है। यही कारण है ​कि न सिर्फ अपने पंचायत में बल्कि प्रदेश के अन्य पंचायत के प्रतिनिधियों के लिए भी प्रेरणास्रोत बनी हुई है। तभी इनके बेहतर कार्यों की चर्चा राष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है।


यह पूछे जाने पर कि आखिर कौन सी ऐसी गतिविधियां या विशेष कार्य से पंचायत ने किया है जिसकी वजह से पंचायत को यह राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है। मुखिया इन्दु देवी और उनके पति मुकेश यादव ने कहा कि ये बात तो आप गांव के लोगों से पूछ सकते हैं। जहां तक काम का सवाल है आप पायेंगे और लोग भी यह बात कहते हैं कि पूरे पंचायत का तस्वीर बदल गई है। एक वो भी समय था जब गांव मे आने जाने की दिक्कत थी। पक्के सड़क का निर्माण हुआ। सामुदायिक जगहों पर शौचालय और चबुतरा का निर्माण। सभी स्कूलों में हैंडवाश यूनिट, आंगन वाडी केंद्र में मिनी हैंडवाश यूनिट बना। लेकिन किसी भी पंचायत को अवार्ड मिलने की इतना काम काफी नहीं होता बल्कि व्यापक पहल की जरूरत होती है।

इस बाबत जब पंचायत के कामकाज का अवलोकन किया तो पाया कि हर स्तर पर कपिलो पंचायत का चहुमुखी विकास के लिए ये काम किया गया है।
— ग्राम सभा से पारित योजनाओं को कार्यकारिणी की मासिक बैठक में जनहित को ध्यान में रखते हुए प्राथमिक के आधार पर चयन कर योजनाओं को शत प्रतिशत धरातल पर उतारा जाता है।
— पंचायत के अनुसूचित टोले में विकास कार्य को प्राथमिकता दी जाती है।
— सरकारी दिशा निर्देशानुसार हर महत्वाकांक्षी व जन कल्याणकारी योजनाओं को ग्राम पंचायत के धरातल पर बखूबी उतारा गया है।
— स्वच्छ भारत मिशन के तहत सभी गरीबों के घर में सुंदर व गुणवत्तापूर्ण शौचालय का निर्माण किया गया है और उसमें आकर्षक रंग रोंगन का विशेष कार्य किया गया है।
— पंचायत स्तर पर मिले सारे फंड का शत प्रतिशत उपयोग किया गया है।
— जनहित में दर्जनों पीसीसी रोड निर्माण, पेभर ब्लॉक पथ निर्माण, चबूतरा, शमशान शेड, छठ घाट, सौर ऊर्जा संचालित जल मीनार, पुलिया, नाली निर्माण, चापाकल निर्माण, सोखता टंकी, नाड़ेफ टैंक, आंगनबाड़ी भवन निर्माण एवं आकर्षक रंग रोंगन, पंचायत भवन का सुंदर साज सज्जा, कलस्टर केन्द्र में समुदायिक शौचालय निर्माण इत्यादि।
— जल स्तर पर बढाने के लिए दर्जनों तालाब, डोभा, कुँवा, टीसीबी, सोख्ता गडढा निर्माण किया गया है।
— बच्चों एवं धात्री महिलाओं का शत प्रतिशत टीकाकरण किया जाता है।
— गर्भवती महिलाओं का सौ फीसदी टीकाकरण ।
— स्कूली बच्चों का शत प्रतिशत उपस्थिति, नो ड्रॉप आउट।
— सीएसी केन्द्र एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों की क्रियाशीलता, शौचालय की शत प्रतिशत उपयोगिता ।
— स्कूलों में, आंगनबाड़ी केन्द्रों में और पंचायत के हर घरों में शौचालय की व्यवस्था और स्वच्छता का बेहतर उपलब्ध संसाधन।
— ग्राम स्तर पर ग्रामसभा का आयोजन एवं ग्रामीणों की बेहतर उपस्थिति और बेहतर प्रस्ताव।
— स्कूलों में पर्याप्त शिक्षक एवं उनकी नियमित उपस्थिति।
— पंचायत स्तर पर निगरानी समिति, स्थायी समिति, ग्राम जल स्वच्छता समिति के द्वारा बेहतर कार्य किया जाता रहा है और सभी के सहयोग से जनहित में कार्य करने का निर्णय लिया जाता है।

कोरोना वारियर्स की भूमिका में दिखीं इन्दु देवी
राष्ट्रीय पंचायत अवार्ड से सम्मानित कपिलो पंचायत के लोकप्रिय मुखिया इन्दु देवी के द्वारा कोरोना वायरस से बचाव के लिए खुद से श्रम दान कर पंचायत वासियों के हित के लिए मास्क बनाया,मास्क और सैनिटाइजर का वितरण पूरे पंचायत में करने के साथ ही कोशिश किया कि यथासंभव हर प्रकार की मदद पंचायत वासियों को किया जाए। इसके लिए कपिलो पंचायत भवन में आइसोलेशन वार्ड (कोरनटाईन कमरा) तैयार तो कराया ही साथ ही सभी लोगों से अपील किया कि कोरोना से बचने के लिए कृप्या आप सभी घर पर रहें, बेवजह घर से बाहर कोई नहीं निकलें। सभी समाजसेवी से आग्रह है कि एक दूसरे को मदद व प्रेरित करें।


लोगों ने बताया कि कपिलो मुखिया इन्दु देवी सामाजिक न्याय की पक्षधर रही हैं। कोरोना संकट में भी उनका यह रूप देखने को मिला। उन्होंने खुद श्रमदान कर अपना निजी खर्च से बनाया हुवा मास्क सर्वप्रथम ग्राम कपिलो के हरिजन टोला में जाकर प्राथमिकता के आधार पर गरीबों के बीच वितरण किया। साथ ही साथ मास्क वितरण करने से पहले सभी ग्रामीणों को सेनेटाईजर से हाथ साफ करवाया गया और कोरोना वायरस से बचने के लिए सरकार के आदेश व लॉकडाउन को पालन करने का आग्रह किया गया एवं सभी लोगों को घर पर ही रहने का अपील किया गया। इ​तना ही नहीं उनके पति मुकेश यादव भी इस दौरान सक्रिय दिखे। ग्राम चानो में घर—घर जाकर कपिलो पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि मुकेश यादव के द्वारा हर जाकर लोगों को सेनेटाईजर से हाथ सेनेटाईज किया गया और सभी को मास्क वितरण किया गया। उल्लेखनीय है कि कपिलो पंचायत के मुखिया ने ग्राम चानों को गोद लिया हैं और ऐसे विकट परिस्थितियों में ग्राम चानों के हर घर जाकर सभी ग्रामीणों को कोरोना से बचने के लिए प्रत्येक घर के ग्रामीणों को मास्क उपलब्ध कराकर अपनी भूमिका निभाई।

पंचायत में ये चार गांव है शामिल

नाम आबादी जाती
1.कपिलो – 2200 मुस्लिम, मोदी, रविदास, बढ़ई , यादव माहुरि, हरिजन
2.रजमनियां – 1300 तेली, घटवार, बनिया,
3. चानों – – 1450 यादव, घटवार, बनिया, तेली, हरिजन,दास
4. पंदना कला – 1160 , यादव, धोबी, मोदी, ठाकुर, घट वार
कुल आबादी – 6110
उल्लेखनीय है कि एक माह पहले कपिलो पंचायत को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। पिछला वर्ष की तरह इस वर्ष भी कपिलो पंचायत को दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार के लिए  चयन किया गया है।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *